close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक बनाने वाले मौजूदा समय के तीन भारतीय

क्रिकेट में सबसे कठिन फॉर्मेट टेस्ट माना जाता है, जिसकी सबसे बड़ी वजह इसमें खिलाड़ियों को असल मायने में खुद को खेल के प्रत्येक पहलू में साबित करना होता है। टेस्ट क्रिकेट में वही खिलाड़ी सफल होते दिखे हैं, जो तकनीकी तौर पर काफी मजबूत होते हैं क्योंकि वह इसी के दम पर देश और विदेश में सफल हो सकते हैं।

बल्लेबाजों के लिए लाल गेंद का सामना करना और भी कठिन होता है क्योंकि इसमें गेंद के स्विंग होने और गेंदबाज के पास लगातार उन पर दबाव बनाने का शानदार मौका होता है। भारतीय क्रिकेट इतिहास में हम सभी ने ऐसे कई बल्लेबाज देखे हैं, जिन्होंने सभी पहलू में खुद को साबित किया है और हम आपको इस आर्टिकल में मौजूदा समय के ऐसे 3 खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके नाम टेस्ट क्रिकेट में दोनों पारियों में शतक लगाने का कारनाम दर्ज है।

3 –विराट कोहली (बनाम ऑस्ट्रेलिया, साल 2014, एडिलेड टेस्ट)

भारतीय टीम के साल 2014-15 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर सीरीज का पहला टेस्ट मैच एडिलेड के मैदान पर खेला गया था। इस मैच में मेजबान टीम ने पहली पारी में बल्लेबाजी करते हुए 517 रनों पर पारी घोषित की थी जिसके जवाब में भारतीय कप्तान विराट कोहली के 115 रनों की बदौलत टीम की पहली पारी 444 के स्कोर पर जाकर सिमटी।

ऑस्ट्रेलियाई टीम ने अपनी दूसरी पारी में 290 रन बनाते हुए पारी को घोषित कर दिया और भारत को मैच की चौथी पारी में 364 रनों का कठिन लक्ष्य दिया। शुरुआती 2 विकेट जल्दी गंवाने के बाद बल्लेबाजी के लिए उतरे कप्तान कोहली ने मुरली विजय के साथ पारी को संभालते हुए मैच जीतने की स्थिति में टीम को लेकर आ गए। कोहली ने दूसरी पारी में 141 रन बनाए लेकिन वह टीम को मैच में जीत नहीं दिला सके।

2 – अजिंक्य रहाणे (बनाम दक्षिण अफ्रीका, साल 2015, दिल्ली टेस्ट)

दक्षिण अफ्रीका की टीम साल 2015 में भारत के दौरे पर आई थी जिसमें उसे मेजबान टीम के खिलाफ सीरीज का चौथा टेस्ट मैच दिल्ली के फिरोजशाह कोटला के मैदान पर खेलना था। भारतीय टीम ने इस मैच में टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया लेकिन टीम के ऊपरी क्रम के बल्लेबाजों के जल्दी पवेलियन लौटने के बाद अजिंक्य रहाणे ने पारी को संभालते हुए 127 रनों की शानदार पारी खेली जिसकी बदौलत टीम पहली पारी में 334 के स्कोर पर ऑलआउट हुई।

इसके बाद भारतीय गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए अफ्रीका टीम की पहली पारी 121 के स्कोर पर ही समेट दी। अब अपनी दूसरी पारी में भारतीय टीम को बेहतर बल्लेबाजी करते हुए बड़ा लक्ष्य देने की कोशिश करनी थी और एकबार फिर से रहाणे ने मुख्य भूमिका निभाते हुए नाबाद शतकीय पारी खेली जिससे दक्षिण अफ्रीका को मैच की चौथी पारी में 481 रनों का लक्ष्य मिला और वह 143 के स्कोर पर ही सिमट गई।

1 – रोहित शर्मा (बनाम दक्षिण अफ्रीका, साल 2019, विशाखापट्टनम टेस्ट)

रोहित शर्मा को अभी टेस्ट क्रिकेट में खुद को एक ओपनिंग बल्लेबाज के तौर पर विदेशी जमीन पर साबित करना बाकी है, लेकिन उन्होंने घरेलू जमीन पर यह काम पहले ही बखूबी कर दिया है। रोहित ने साल 2019 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विशाखापट्टनम के मैदान पर खेले गए टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक लगाते हुए खुद को बिल्कुल एक अलग क्लब में शामिल कर लिया था।

इस मैच में रोहित ने पहली पारी में जहां 176 रन बनाए तो वहीं, दूसरी पारी में बल्लेबाजी करते हुए सिर्फ 149 गेंदों में 127 रन बनाते हुए भारतीय टीम को मैच में 203 रनों की बड़ी जीत दिलाने में अहम भूमिका अदा की थी।

Leave a Response