close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

इन 3 नए नियमों से आईपीएल 2021 का रोमांच और भी बढ़ जाएगा

इंडियन प्रीमियर लीग का 13वां सीजन अभी तक का सबसे रोमांचक सीजन कहा जा सकता है। क्योंकि अंतिम लीग मैच के बाद ही प्लेऑफ में पहुंचने वाली 4 टीमों का नाम तय हो सका था। वहीं फैंस को इस सीजन में एक मैच में 2-2 बार सुपर ओवर देखने को मिले। इसके अलावा एक ही दिन में 2 सुपर ओवर मैच ने भी रोमांच को अलग ही स्तर पर पहुंचा दिया था।

अब सभी टीमें 14वें सीजन में एकबार से खिताब जीतने के इरादे से मैदान में उतरेंगी। जिसमें कई टीमों में बड़े बदलाव भी देखने को मिलेंगे। ग्लैन मैक्सवेस जहां कोहली की कप्तानी में खेलते दिखने वाले हैं, तो वहीं स्टीव स्मिथ भी दिल्ली कैपिटल्स टीम का हिस्सा होंगे। लेकिन भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड आईपीएल के आगामी सीजन को और भी रोमांचक बनाने पर विचार कर रहा है, जिसको लेकिन नियमों में थोड़ा सा बदलाव किया जा सकता जैसा हमने बिग बैश लीग के में देखा। जिसके बाद हम आपको ऐसे 3 नियमों के बारे में बताने जा रहे जिनके लागू होने से आईपीएल का रोमांच और भी अधिक बढ़ जाएगा।

1 – पॉवर सर्ज

इस नियम को बिग बैश लीग के 10वें सीजन में लागू किया गया था। पॉवर सर्ज में फील्डिंग करने वाली टीम के सिर्फ 2 खिलाड़ी ही 30 यॉर्ड के सर्किल से बाहर रह सकते हैं। आईपीएल में इस नियम के लागू से लक्ष्य का पीछा करने वाली टीम को लाभ मिल सकता है और वह अपनी रनों की गति को बढ़ाने के लिए इसका उपयोग बल्लेबाजी करने वाली टीम पारी के 11 वें ओवर के बाद कभी ले सकती है।

2 – एक्स फैक्टर

आईपीएल के 13वें सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स को बेहद संघर्ष करते हुए देखा गया था, जिसके पीछे सबसे बड़ा कारण अंतिम एकादश में खेलने वाले खिलाड़ियों का उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन ना कर पाना था। जिसके बाद यदि 14वें सीजन में एक्स फैक्टर का नियम लागू किया जाता है, तो इससे सभी को लाभ मिलेगा।

एक्स फैक्टर नियम नियम में मैच खेलने वाली दोनों टीमों को अपनी एकादश से एक खिलाड़ी को बदलने की अनुमति मिलती है। लेकिन पारी के 10वें ओवर के बाद ही कोई टीम ऐसा कर सकती है, जिसमें बल्लेबाजी करने वाली टीम अपने किसी खिलाड़ी को जगह पर किसी दूसरी खिलाड़ी को हालात के अनुसार शामिल कर सकती है, वहीं फील्डिंग के दौरान भी टीम इस नियम का लाभ ले सकती है।

3 – बोनस प्वाइंट

बोनस प्वाइंट का नियम हम सभी ने कई अंतरराष्ट्रीय सीरीज में देखा है, जहां पर हारने वाली टीम को भी 1 अंक मिलने की उम्मीद रहती है, जिसका लाभ वह ऐसे समय उठाती है जब नेट रनरेट के अनुसार टीमों के उस टूर्नामेंट में बने रहने की स्थिति देखी जाती है। आईपीएल में भी हम सभी ने कई बार ऐसे मैच देखे हैं, जहां पर टीमों ने एकतरफा मुकाबले जीतने में कामयाब रहीं।

लेकिन इससे उनके नेट रनरेट में ही लाभ देखने को मिला लेकिन बोनस प्वाइंट के शामिल होने से पूरे टूर्नामेंट का रोमांच एक अलग स्तर पर पहुंचने की उम्मीद की जा सकती है। वहीं इससे प्लेऑफ में पहुंचने वाली टीमों की स्थिति का आकलन भी जल्द किया जा सकेगा। बोनस प्वाइंट का लाभ सिर्फ मैच में जीतने वाली टीम ही नहीं बल्कि हारने वाली टीम को भी मिल सकता है क्योंकि यदि वह एक तय सीमा तक विपक्षी टीम को मैच जीतने से रोकने में कामयाब रहती है, तो उसे हार के बावजूद अंक मिलने की संभवना रहेगी।

Leave a Response