close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में इन 3 टीमों की दूसरे दर्जे की टीम भी है बेहद मजबूत

कोरोना महामारी के कारण अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अब एक बड़ा बदलाव देखने को मिल रहा है। इसमें कई बोर्ड जिनके पास ऐसे 25 से 30 खिलाड़ियों का एक पूल मौजूद है, जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर टीम का प्रतिनिधित्व करने की क्षमता रखते हैं, उन्हें खेलने का मौका मिल रहा है। इसके चलते टेस्ट और वनडे मैचों में अलग-अलग टीमों को खेलते हुए देखा जा सकता है।

साल 2020 में इंग्लैंड की 2 अलग-अलग टीमों को वनडे और टेस्ट में खेलते हुए देखा गया था। अब इस साल भारत की 20 सदस्यों की टीम श्रीलंका के दौरे पर लिमिटेड ओवर्स की सीरीज खेलने गई हुई है, तो वहीं 24 सदस्यों की टीम इस समय इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज खेलने का इंतजार कर रही है। हम आपको इस आर्टिकल में ऐसे टॉप-3 क्रिकेट खेलने वाले देशों के बारे में बताने जा रहे, जिनके पास दूसरे दर्जे की बेहद मजबूत टीम मौजूदा समय में है।

3 – न्यूजीलैंड

कुछ महीनों पहले न्यूजीलैंड की टीम को लेकर किसी ने यह उम्मीद नहीं जताई थी कि यह टीम वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के खिताब को अपने नाम करने में कामयाब हो सकेगी। लेकिन कीवी टीम ने सभी को गलत साबित करते हुए भारत को 8 विकेट से मात देकर यह संदेश दिया की वह भी विश्व क्रिकेट में बादशाहत कायम करने की काबिलियत रखती है।

न्यूजीलैंड की टीम ने टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले से पहले इंग्लैंड के खिलाफ 2 मैचों की टेस्ट सीरीज भी खेली थी, जिसमें वह अपनी पूरी क्षमता के साथ खेलते हुए नजर नहीं आए थे। दूसरे टेस्ट मैच में केन विलियमसन भी बाहर थे, इसके बावजूद टीम ने मैच में जीत हासिल करते हुए सीरीज को 1-0 से अपने नाम किया था।

जब किसी टीम के पास ऐसे खिलाड़ियों का एक शानदार पूल मौजूद होता, जिसमें बल्लेबाज, गेंदबाज और कुछ विकेटकीपर के साथ ऑलराउंडर खिलाड़ी भी शामिल हों तो उसे हल्के में लेना किसी के लिए भी भारी पड़ सकता है। न्यूजीलैंड क्रिकेट ने पिछले कुछ समय में यह सबकुछ हासिल किया है, जिसके चलते अब उनके पास शानदार खिलाड़ियों का पूरा समूह मौजूद है।

2 – इंग्लैंड

साल 2015 के बाद से इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने टीम की बेंच स्ट्रेंथ को लेकर काफी काम किया है और इसका असर लिमिटेड ओवर्स क्रिकेट में साफ तौर पर देखने को मिलता है। पाकिस्तान के खिलाफ सीरीज से पहले इंग्लैंड के कुछ खिलाड़ियों के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद पूरी एक नई टीम का सीरीज से पहले ऐलान कर दिया गया।

किसी को उम्मीद नहीं थी कि बेन स्टोक्स की कप्तानी में खेलने वाली टीम पाकिस्तान का 3 वनडे मैचों में सूपड़ा साफ करते हुए सभी को प्रभावित करेगी। वहीं दूसरी तरफ इंग्लैंड 2 टेस्ट टीम तैयार करने पर भी काम कर रहा है, ताकि खिलाड़ियों को महामारी के तौर अधिक मानसिक दबाव ना झेलना पड़े।

1 – भारत

भारत बाकी टीमों के मुकाबले एकलौती ऐसी टीम है, जो अपनी टेस्ट टीम को एक लंबे दौरे पर भेजने के साथ उसके पास लिमिटेड ओवर्स के लिए अनुभवी खिलाड़ी फिर भी मौजूद होंगे। श्रीलंका दौरे पर सीरीज खेलने गए भारतीय टीम को किसी नजरिए से दूसरे दर्जे की नहीं कहा जा सकता है, क्योंकि इसमें शामिल 20 में से 14 खिलाड़ी किसी एक फॉर्मेट में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में भारतीय टीम के लिए खेल चुके हैं।

इसका एक उदाहरण हमें उस समय देखने को मिला था, जब ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर प्रमुख खिलाड़ियों के अनफिट होकर बाहर हो जाने पर बेंच स्ट्रेंथ में मौजूद खिलाड़ियों ने शानदार प्रदर्शन करते हुए टीम को ऐतिहासिक जीत दिलाने का काम किया था। BCCI ने पिछले कुछ सालों से ऐसा सिस्टम तैयार किया है, जिसमें खिलाड़ियों को काफी कम उम्र से ही तैयार किया जाता है, ताकि वह पूरी तरह से खुद को निखार सके।

Leave a Response