close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

लेग स्पिनर से टेस्ट विशेषज्ञ: स्मिथ के करियर की 5 यादगार पारियां

वर्तमान समय में यदि क्रिकेट की दुनिया में टॉप-3 बल्लेबाजों की बात की जाए तो उसमें ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व कप्तान स्टीव स्मिथ का नाम जरूर शामिल किया जाएगा। स्मिथ ने खुद वनडे और टी-20 से ज्यादा टेस्ट क्रिकेट में बेहतर खिलाड़ी साबित किया है। स्मिथ के टेस्ट में रिकॉर्ड देखे जाएं तो वह काफी शानदार हैं। 2 जून 1989 को जन्म लेने वाले स्मिथ ने अपना अंतरराष्ट्रीय साल 2010 में बतौर लेग स्पिनर के तौर पर किया था। 

स्टीव स्मिथ को टीम में दिग्गज लेग स्पिनर शेन वार्न के विकल्प के तौर पर देखा जा रहा था, लेकिन वह अपनी लेग स्पिन गेंदबाजी से उतना प्रभावित नहीं कर सके। इसके बाद स्मिथ ने खुद को विशेषज्ञ बल्लेबाज के तौर पर तैयार किया और आज के समय में उनकी गिनती दिग्गज खिलाड़ियों में की जाती है। अभी तक स्मिथ ने अपने टेस्ट करियर में 77 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 61.8 के औसत से 7,540 रन बना चुके हैं, इसमें 27 शतकीय पारियां भी शामिल हैं। वहीं वनडे में स्मिथ ने 128 मैच खेलते हुए 43.35 के औसत से 4,378 रन बनाए हैं। हम आपको स्मिथ के 32वें जन्मदिन के मौके पर उनके अभी तक के करियर की 5 यादगार पारियों के बारे में बताने जा रहे हैं। 

 बनाम इंग्लैंड (साल 2015, लंदन टेस्ट, 215 रनों की पारी) 

ऑस्ट्रेलियाई टीम साल 2015-16 में एशेज खेलने के लिए इंग्लैंड के दौरे पर थी। इस सीरीज का दूसरा मैच लॉर्ड्स के मैदान में खेला जाना था। वहीं पहले मैच में मेजबान इंग्लैंड ने जीत हासिल करते हुए सीरीज में 1-0 की बढ़त बना रखी थी। जिसके बाद ऑस्ट्रेलिया के दूसरे मैच में जीत हासिल करना बेहद जरूरी था, ताकि वह सीरीज में वापसी कर सके। इस मैच में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। 

लेकिन पारी की शुरूआत करने उतरे क्रिस्टोफर रोजर्स और डेविड वार्नर पहले विकेट के लिए 78 रनों क साझेदारी कर सके, जिसके बाद वार्नर 38 के स्कोर पर पवेलियन लौट गए। तीसरे नंबर पर बल्लेबाजी करने उतरे स्टीव स्मिथ एक अलग इरादे के साथ खेलने उतरे थे, जिसमें उन्होंने 346 गेंदों में 215 रनों की पारी खेल दी। जिसके चलते ऑस्ट्रेलियाई टीम ने अपनी पहली पारी में 566 रन बना दिए। इसके जवाब इंग्लैंड अपनी पहली पारी में 312 रन बना ही सकी। 

वहीं स्मिथ ने दूसरी पारी में भी 58 रन बनाए जिससे इंग्लैंड को चौथी पारी में 509 रनों का असंभव लक्ष्य मिला और उनकी पूरी टीम 103 के स्कोर पर ढ़ेर हो गई। स्मिथ को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए इस मैच में प्लेयर ऑफ दी मैच का खिताब भी दिया गया था। 

– बनाम भारत (साल 2017, रांची टेस्ट, 178 रनों की पारी) 

साल 2017 में ऑस्ट्रेलिया के भारत दौरे के दौरान स्मिथ की रांची के टेस्ट मैच में खेली गई 178 रनों की पारी ने सभी का दिल जीतने का काम किया था। दरअसल 4 टेस्ट मैचों की इस टेस्ट सीरीज में के पहले 2 टेस्ट मैचों में एक ऑस्ट्रेलिया और 1 भारत ने जीता था। जिसके बाद रांची में खेला गए तीसरे टेस्ट मैच में किसी भी टीम की जीत उसे सीरीज में अजेय बढ़त दिला सकती थी। इस मैच में कप्तानी कर स्मिथ ने टॉस जीतने के बाद स्पिनरों की मददगार पिच पर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था। 

टीम के दोनों ओपनिंग बल्लेबाज 80 के स्कोर पर पवेलियन लौट चुके थे, लेकिन कप्तान स्मिथ ने एक छोर से विकेट गिरने के सिलसिले को रोक दिया। इसके बाद उन्हें ग्लैन मैक्सवेल का साथ मिला और दोनों ने मिलकर 5वें विकेट के लिए 191 रनों की बड़ी साझेदारी कर दी। स्मिथ की 178 रनों की नाबाद पारी की बदौलत ऑस्ट्रेलियाई टीम ने पहली पारी में 451 रन बना दिए थे। हालांकि बाद में भारतीय बल्लेबाजों के भी शानदार प्रदर्शन के चलते यह टेस्ट मैच ड्रॉ पर खत्म हुआ था। 

 बनाम इंग्लैंड (साल 2019, मैनचेस्टर टेस्ट, 211 रनों की पारी) 

बॉल टेम्परिंग की घटना के बाद 1 साल का बैन झेलने वाले स्टीव स्मिथ ने टेस्ट क्रिकेट में वापसी साल 2019 की एशेज सीरीज के साथ की थी। इस सीरीज मे उन्होंने जिस अंदाज में खेल दिखाया उसकी सभी ने तारीफ की थी। एक तरफ पूरी सीरीज के दौरान ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज जोफ्रा आर्चर की गेंदबाजी के आगे संघर्ष करते हुए दिखाई दे रहे थे, वहीं दूसरी तरफ स्टीव स्मिथ लगातार पूरी सीरीज में शानदार बल्लेबाजी करते दिखाई दिए। 

इस सीरीज का चौथा मैच मैनचेस्टर के मैदान में खेला गया जिसमें ऑस्ट्रेलियाई टीम को पहले बल्लेबाजी करने का मौका मिला था। शुरूआती 2 विकेट 28 के स्कोर पर पवेलियन लौटने के बाद स्मिथ ने पहले लाबुशेन के साथ 116 रनों की और फिर टिम पेन के साथ 145 रनों की साझेदारी करते हुए पहली पारी में अकेले 211 रन बना दिए। जिसके चलते ऑस्ट्रेलियाई टीम पारी 497 के स्कोर पर जाकर सिमटी थी। स्मिथ ने इस मैच की दूसरी पारी में भी 82 रनों की पारी खेली थी। वहीं ऑस्ट्रेलिया ने मैच को 185 रनों से जीतते हुए सीरीज में 2-1 की अजेय बढ़त ले ली थी। 

 बनाम इंग्लैंड (साल 2015, होबार्ट वनडे, 102 रनों  की पारी) 

ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच साल 2015 में होबार्ट के मैदान में खेले गए वनडे मैच में स्मिथ ने कप्तान के तौर पर टीम के लिए मैच विनिंग पारी खेली थी। इस मैच में इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाजी करते हुए इयान बेल के 141 रनों की बदौलत 50 ओवरों में ऑस्ट्रेलिया को 304 रनों का लक्ष्य दिया था। इसके बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम के ओपनिंग बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 76 रनों की साझेदारी करते हुए अच्छी शुरूआत दी। 

लेकिन अचानक 20 रनों के अंदर 3 विकेट गंवाने के कारण ऑस्ट्रेलिया दबाव में आ गई वहीं ऐसे में कप्तान स्टीव स्मिथ ने एक छोर से रनों की गति की बनाए रखते हुए टीम को जीत तरफ ले जाते दिखे। स्मिथ ने मैक्सवेल, फॉक्नर और हैडिन के साथ अर्धशतकीय साझेदारी की। वहीं उन्होंने अंत में अपना शतक पूरा करने के साथ टीम को 3 विकेट से शानदार जीत दिलाकर वापस लौटे। 

 बनाम भारत (साल 2016, पर्थ वनडे, 149 रनों की पारी) 

भारतीय टीम साल 2015-16 में ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर थी, इस दौरान दोनों ही टीमों के बीच 5 मैचों की वनडे सीरीज खेली गई थी। सीरीज का पहला मैच पर्थ के मैदान में खेला जाना था, जिसमें भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया और रोहित शर्मा के शानदार 171 और विराट कोहली के 91 रनों की बदौलत टीम ने 50 ओवरों में 3 विकेट के नुकसान पर 309 रन बना दिए थे। जिसके बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम की पारी की शुरूआत अच्छी नहीं रही और दोनों ही ओपनिंग बल्लेबाज 21 के स्कोर पर पवेलियन लौट गए। 

कप्तान स्मिथ पर अब एक तरफ रनों की गति को बनाए रखने के साथ मैच में बड़ी पारी खेलने का दबाव था, जिसमें उन्होंने जॉर्ज बेली के साथ मिलकर तीसरे विकेट के लिए 242 रनों की साझेदारी करते हुए टीम की जीत को पक्का कर दिया। स्मिथ को मैच में 149 रनों की शानदार पारी खेलने के चलते प्लेयर ऑफ दी मैच का खिताब भी दिया गया था। 

इन तीन खिलाड़ियों ने टेस्ट क्रिकेट जीते हुए मैचों में लगाए सबसे अधिक शतक

Leave a Response