close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

घर में इंग्लैंड को हराना भारत के लिए पहाड़ उठाने जैसा होगाः एलिस्टर कुक

मौजूदा समय में इंग्लैंड की धरती पर आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मुकाबला भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेला जा रहा है। इस मुकाबले के बाद टीम इंडिया इंग्लैंड के साथ 5 मैचों की टेस्ट सीरीज खेलेगी। जिसका आगाज 4 अगस्त से हो रहा है, आखिरी बार साल 2018 में टीम इंडिया इंग्लैंड के दौरे पर आई थी। विराट कोहली ने उस दौरे पर 593 रन बनाए थे, हालांकि भारत सीरीज हार गया था।

पूर्व कप्तान कुक ने दिया बड़ा बयान

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक ने सीरीज से पहले बड़ा बयान दिया है। कुक ने अपने टेस्ट करियर का आखिरी मुकाबला खेला था, जिसमें उन्होंने शतक भी ठोका था। अपने अनुभव के हिसाब से कुक ने कहा कि इंग्लैंड को उसकी धरती पर मात देना बेहद कठिन है।

भारतीय टीम ने आखिरी बार साल 2007 में इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज जीती थी। उस सीरीज में जहीर खान ने स्विंग व सीम मोमेंट से इंग्लिश बल्लेबाजों को परेशान किया था। ये सीरीज इंग्लैंड के लिए भी काफी कठिन होगी, लेकिन इंग्लैंड का पलड़ा भारी रहेगा।
भारत ने दिखाया है कि वह शानदार फॉर्म में हैं और इसी वजह से वह वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में हैं। लेकिन पांच मैचों की सीरीज में इंग्लैंड को उसके घर में हराना काफी कठिन होगा।
-कुक ने ईएसपीएन क्रिकइंफो से कहा

इंग्लैंड को उसकी धरती पर हराना भारत के लिए पहाड़ उठाने जैसा

विश्व टेस्ट चैंपियनशिप 23 जून को समाप्त होने वाली है, जो रिजर्व डे की वजह से बढ़ी है। अगस्त में शुरु होने वाली टेस्ट सीरीज से पहले भारत के पास 40 दिन का वक्त है। कई पूर्व क्रिकेटरों ने इस शेड्यूल की तीखी आलोचना की है। कुक को भी शेड्यूल में लंबा गैप खल रहा है और उनके मुताबिक इससे खिलाड़ियों की थकान बड़ेगी।

दौरे के अंत तक पहुंचते-पहुंचते भारतीय टीम मानसिक रुप से थक जाएगी, क्योंकि ये दौरा लंबा खिंच रहा है। सीरीज के शुरुआत में भारतीय टीम अच्छा प्रदर्शन कर सकती है, लेकिन लगातार पांचों मुकाबलों में टीम को इंग्लैंड को मात देने के लिए पहाड़ उठाने जैसा पराक्रम दिखाना होगा।

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।