close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप : पहले संस्करण में सबसे अधिक विकेट लेने वाले टॉप-5 गेंदबाज

आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का पहला संस्करण न्यूजीलैंड टीम के फाइनल मुकाबले में 8 विकेट से जीत के साथ पूरा हो गया। पहला संस्करण साल 2019 से लेकर 2021 के बीच खेला गया, जिसमें सभी टीमों ने शानदार खेल दिखाया। वहीं टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाजों की अहमियत का अंदाजा भी टीमों को काफी शानदार तरीके से हुआ, जिसमें फाइनल मुकाबले में भी गेंदबाजों के चलते ही परिणाम निकल सका।

पहले संस्करण में हमें कई गेंदबाजों से शानदार प्रदर्शन देखने को मिले, जिसमें उनके बेहतरीन स्पेल के चलते मैच का रुख ही पलट गया। इसमें भारतीय गेंदबाजी समूह की भी तारीफ हुई, जिन्होंने टीम को ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर जीत दिलाने में अहम भूमिका अदा की थी। जिसके बाद हम आपको पहले संस्करण में सबसे ज्यादा विकेट हासिल करने वाले टॉप-5 गेंदबाजों के बारे में बताने जा रहे हैं।

5 – नाथन लायन (56 विकेट)

ऑस्ट्रेलिया टीम के अनुभवी स्पिन गेंदबाज नाथन लायन वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के पहले संस्करण में सबसे ज्यादा विकेट हासिल करने के मामले में 5वें स्थान पर हैं। नाथन ने 14 मैचों की 27 पारियों में गेंदबाजी करते हुए 31.37 के औसत से 56 विकेट हासिल किए हैं। इस दौरान लायन ने 1 पारी में 4 बार 5 विकेट तो वहीं एक मैच में 10 विकेट लेने का भी कारनामा किया है।

4 – टिम साउदी (56 विकेट)

न्यूजीलैंड टीम के वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के पहले संस्करण में विजेता बनने में टिम साउदी ने भी अहम भूमिका अदा की है। साउदी ने 11 मैचों की 22 पारियों में गेंदबाजी करते हुए 20.82 के औसत से कुल 56 विकेट हासिल किए हैं। इसमें साउदी ने 3 पारियों में 5 विकेट भी हासिल किए ।

3 – स्टुअर्ट ब्रॉड (69 विकेट)

इंग्लैंड टीम के अनुभवी तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड की आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के पहले संस्करण में घातक गेंदबाजी देखने को मिली। ब्रॉड ने 17 मैचों की 32 पारियों में गेंदबाजी करते हुए 20.08 के औसत से 69 विकेट अपने नाम किए। वहीं उन्होंने 2 बार एक पारी में 5 विकेट लेने के साथ एक मैच में कुल 10 विकेट भी हासिल किए।

2 – पैट कमिंस (70 विकेट)

ऑस्ट्रेलिया तेज गेंदबाज पैट कमिंस ने अपनी गेंदबाजी से वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के पहले संस्करण में सबसे ज्यादा सुर्खियां बटोरने का काम किया। पैट कमिंस की घातक गेंदबाजी के चलते कई दिग्गज बल्लेबाजों को भी संघर्ष करते हुए इस दौरान देखा गया। कमिंस ने 14 मैचों की 28 पारियों में गेंदबाजी करते हुए 21.02 के औसत से 70 विकेट हासिल किए, जिसमें 1 बार पारी में 5 विकेट भी हासिल किए।

1 – रविचंद्रन अश्विन (71 विकेट)

भारतीय टीम को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल तक पहुंचाने में ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने अहम भूमिका अदा की है। अश्विन ने 14 मैचों की 26 पारियों में गेंदबाजी करते हुए 20.33 के औसत से कुल 71 विकेट हासिल किए। इस दौरान अश्विन ने 4 बार एक पारी में 5 विकेट लेने का भी कारनामा किया। अश्विन की ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर किए गए प्रदर्शन से सभी काफी प्रभावित दिखे। वहीं उन्होंने टीम के लिए बल्ले से भी महत्वपूर्ण योगदान दिया।

Leave a Response