close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

वनडे में क्यों फ्लॉप होती जा रही पाकिस्तानी टीम

पाकिस्तान क्रिकेट टीम को लेकर हमेशा कहा जाता है कि उनके पास कभी प्रतिभा की कमी देखने को नहीं मिली है। इसी टीम से जहां वसीम अकरम और वकार यूनिस से दिग्गज तेज गेंदबाज देखने को मिले तो वहीं जहीर अब्बास और जावेद मियांदाद जैसे बल्लेबाज। लेकिन साल 2017 के बाद से पाकिस्तान टीम जिस तरह का प्रदर्शन कर रही है, उससे सभी को अचम्भा हुआ है।

इंग्लैंड में खेली गई साल 2017 की चैंपियंस ट्रॉफी में पाकिस्तान की टीम ने भारत को फाइनल मैच में हराते हुए जीत हासिल की थी और यहां से सभी को लगा था कि टीम अब आगे की तरफ बढ़ती हुई दिखाई देगी। लेकिन ऐसा कुछ भी देखने को नहीं मिला। चैंपियंस ट्रॉफी के बाद पाकिस्तान टीम ने 13 वनडे टूर्नामेंट में हिस्सा लिया, जिसमें द्विपक्षीय सीरीज भी शामिल हैं। इसमें टीम को सिर्फ 5 सीरीज में जीत हासिल हुई, जिसमें जिम्बाब्वे और श्रीलंका के खिलाफ 2-2 सीरीज शामिल हैं।

आखिर कहां गलती कर रही पाकिस्तान टीम

साल 2019 के वर्ल्ड कप में पाकिस्तान टीम से सभी को बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद थी, लेकिन टीम लीग मुकाबलों से आगे नहीं बढ़ सकी। इसके बाद सरफराज अहमद को श्रीलंका के खिलाफ घरेलू वनडे सीरीज के बाद टीम की कप्तानी के पद से मुक्त कर दिया गया और उनकी जगह पर बाबर आजम को नया कप्तान नियुक्त किया गया।

बाबर के कप्तान बनने के बाद पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को उम्मीद थी कि टीम बेहतर प्रदर्शन करेगी। जिम्बाब्वे के खिलाफ घरेलू जमीन और दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर 2-1 से सीरीज जीतकर ऐसा लगा कि अब पाकिस्तान टीम सही हाथों में है। लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ टीम को 3-0 से जिस तरह से हार का सामना करना पड़ा, उससे एक बार फिर से सवाल खड़े होने लगे हैं।

पाकिस्तान टीम के इस खराब प्रदर्शन की सबसे बड़ी वजह टीम के पास बाबर आजम का साथ देने के लिए उनके जैसा कोई दूसरा खिलाड़ी मौजूद नहीं है। यदि बाबर किसी मैच में बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहते हैं, तो टीम की हार लगभग तय मानी जाती है। वहीं गेंदबाजी में भले ही टीम के पास युवा गेंदबाज मौजूद हैं, लेकिन मोहम्मद आमिर जैसे अनुभवी खिलाड़ी के जाने से टीम को काफी नुकसान उठाना पड़ा है।

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।