close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

टी-20 क्रिकेट इतिहास में इस खिलाड़ी ने जड़ा था पहला शतक

टी-20 क्रिकेट शुरू होने के बाद से इसे देखने के नजरिए में काफी बड़ा बदलाव आया है। इस फॉर्मेट में भी कई खिलाड़ियों ने अपना लोहा मनवाते हुए खुद को टी-20 सुपरस्टार के तौर पर साबित किया है। हम सभी ऐसे खिलाड़ियों को टी-20 लीग्स में अक्सर खेलते हुए देखते हैं। लेकिन क्या आपको पता है, कि इस फॉर्मेट में पहला शतक किस खिलाड़ी के नाम है। नहीं तो हम आपको आज उसी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने यह रिकॉर्ड साल 2003 में वॉर्किशायर और ग्लॉस्टरशायर के बीच खेले गए मैच में बनाया था।

इयान हार्वे ने लगाया पहला शतक

साल 2003 में वॉर्किशायर और ग्लॉस्टरशायर के बीच मैच बर्मिंघम के मैदान में मैच खेला गया था। इस मैच में निक नाइट की कप्तानी में खेलने वाली वॉर्किशायर ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवरों में 7 विकेट के नुकसान पर 134 रन बनाए थे। कप्तान निक नाइट जहां मैच में सिर्फ 2 रन बनाकर पवेलियन लौट गए, तो वहीं जोनाथन ट्रॉट ने नाबाद 65 रनों की पारी खेलते हुए टीम को इस स्कोर तक पहुंचाने में अहम भूमिका अदा की थी।

इसके अलावा वॉर्किशायर की तरफ से ट्रेवर पायनी ने भी 21 महत्वपूर्ण रनों का योगदान दिया था। वहीं ग्लॉस्टरशायर के लिए मैच में मार्क एलन और जॉन लुईस ने 2-2 विकेट हासिल किए, जबकि इयान हार्वे ने भी 1 विकेट अपने नाम किया था।

पारी की शुरुआत का मिला मौका और हार्वे ने रचा इतिहास

135 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी ग्लॉस्टरशायर की टीम से पारी की शुरुआत करने के लिए क्रेग स्पेयरमेन और इयान हार्वे की ओपनिंग जोड़ी मैदान में उतरी। दोनों ने मिलकर पहले विकेट के लिए तेज 96 रनों की साझेदारी की, जिसमें हार्वे अधिक आक्रामक बल्लेबाजी कर रहे थे। हालांकि क्रेग 23 रन बनाकर पवेलियन लौट गए।

जिसके बाद नंबर 3 पर बल्लेबाजी के लिए उतरे जांटी रोड्स भी सिर्फ 1 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। लेकिन दूसरे छोर से हार्वे ने आक्रामक बल्लेबाजी जारी रखते हुए सिर्फ 50 गेंदों में 100 रन बना दिए। उन्होंने 13 चौके और 4 छक्के भी लगाए। हार्वे की इस शानदार पारी के चलते ग्लॉस्टरशायर ने इस मैच को 13.1 ओवरों में खत्म करते हुए 8 विकेट से शानदार जीत दर्ज की थी।

कुछ ऐसा रहा हार्वे का अंतरराष्ट्रीय करियर

ऑस्ट्रेलियाई टीम के पूर्व ऑलराउंडर खिलाड़ी इयान हार्वे के अंतरराष्ट्रीय करियर पर एक नजर डाली जाए, तो उन्होंने 73 वनडे मैचों में खेलते हुए बल्ले से 715 रनों का योगदान दिया है। उन्होंने वेस्टइंडीज के खिलाफ एक मैच में उन्होंने अपने करियर की सर्वाधिक 48 रनों की पारी खेली थी। वहीं गेंद से हार्वे ने 30.31 के औसत से 85 विकेट हासिल किए।

Leave a Response