close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

रनों का अंबार लगाने वाले मयंक अग्रवाल के फिटनेस का ये है राज

भारतीय टीम लंबे समय से एक अदद बेहतरीन सलामी बल्लेबाज के लिए तरस रही थी। युवा बल्लेबाज मयंक अग्रवाल के रूप में ये खोज पूरी होती दिखाई दे रही है। पहले विदेशी धरती पर अग्रवाल ने अपनी प्रतिभा से परिचय से कराया उसके बाद पहली बार भारतीय सरजमीं पर टेस्ट मैच खेलते हुए उन्होंने दोहरा शतक ठोक इतिहास रच दिया। यही नहीं मयंक ने शानदार बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश करते हुए पुणे टेस्ट मैच की पहली पारी में भी शतक जड़ दिया।

अपनी बारी का करना पड़ा लंबा इंतजार

भारतीय घरेलू क्रिकेट में रनों का अंबार लगाने के बावजूद मयंक अग्रवाल को राष्ट्रीय टीम में जगह देर से मिली। टीम में जगह मिलने के बाद अग्रवाल को अपनी बारी का इंतजार करना पड़ा और मेलबर्न टेस्ट मैच में जब उन्हें मौका मिली तो उन्होंने 76 रन की पारी खेलकर अपने चयन को उचित ठहराया। ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर इंग्लैंड में खराब प्रदर्शन के चलते टेस्ट टीम से शिखर धवन को बाहर कर दिया गया था, भारतीय टीम मैनेजमेंट ने केएल राहुल, पृथ्वी शॉ और मुरली विजय को बतौर सलामी बल्लेबाज टीम में शामिल किया था।

लेकिन दौरे के एक अभ्यास मैच में पृथ्वी शॉ चोटिल हो गए और दूसरी तरफ मुरली विजय व केएल राहुल के बल्ले से रन ही निकल रहे थे। ऐसे में भारतीय टीम मैनेजमेंट के सामने मयंक को मौका देने के सिवाय कोई विकल्प बचा ही नहीं था। मयंक ने ऑस्ट्रेलिया में 76, 42, और 77 रन की तीन पारियां खेली और भारत ने ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज में ऑस्ट्रेलिया को उसी की धरती पर हराया।

घरेलू क्रिकेट में मयंक का रहा दबदबा

भारतीय टीम में चुने जाने से पहले मयंक अग्रवाल ने घरेलू स्तर की हर प्रतियोगिता में रिकॉर्ड तोड़ प्रदर्शन किया। साल 2017-18 में मयंक ने रणजी ट्रॉफी में 105.45 की औसत से 1160 रन बनाए, यही नहीं विजय हजारे ट्रॉफी में उन्होंने 90.23 के औसत से 723 रन बनाए।

आईपीएल 2019 में रहे सफल

किंग्स इलेवन पंजाब की तरफ से खेलते हुए मयंक अग्रवाल ने 141.88 के स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी करते हुए 332 रन बनाए। आपको बता दें कि साल 2018 के सीजन में वह बुरी तरह से फ्लॉप रहे थे।

फिटनेस पर देते हैं खासा ध्यान

मयंक अग्रवाल मैदान पर कोई कोर-कसर न रह जाए, इसलिए अपनी फिटनेस पर खूब ध्यान देते हैं। उनकी फिटनेस में लंबी दौड़ और पूरे सप्ताह फंक्शनल ट्रेनिंग(बॉडी स्ट्रेंथ को बढ़ाने के लिए रोप, हैमर, प्लैंक, बैलेंस, बॉडी पोस्चर, फ्लेक्सिबिलिटी और मसल ट्रेंनिग ) पर पूरा ध्यान देते हैं। न्यूट्रीशिन और डाइट प्रोग्राम के तहत मयंक अपने खान-पान का पूरा ख्याल रखते हैं। शरीर को थकान न हो, इसके लिए रिकवरी भी उनकी ट्रेनिंग का हिस्सा है।

 

View this post on Instagram

 

The love for chains 😎 #pullups #beastmode

A post shared by Mayank Agarwal (@mayankagarawal) on


मैदान पर बतौर बल्लेबाज फोकस बनाए रखने के लिए मयंक अग्रवाल विपश्यना में मेडिटेशन व योग करते हैं। इसके अलावा जिम में वह घंटों पसीना बहाते हैं, जिससे उनका शरीर एथलीट की भांति बरकरार रहे। उनकी फिटनेस का कायल होकर फास्ट एंड अप नाम की कंपनी ने उन्हें अपना ब्रांड एंबेस्डर बनाया है। ये कंपनी बीते कई वर्षों से युवाओं को हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए प्रेरित करती है और उन्हें न्यूट्रीशन व डाइट की अहमियत से रूबरू कराने का काम करती है।

युवाओं को मयंक से लेना चाहिए प्रेरणा


उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता बल्ले से रन बनाना और जिम में पसीना बहाकर फिटनेस को नया आयाम देना है। इसी वजह से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वह अपनी छाप छोड़ने में सफल हो रहे हैं। ऐसे कई खिलाड़ी हैं जो मयंक की तरह क्रिकेट में नई ऊंचाई हासिल करना चाहते हैं। इन सब चीजों के लिए उन्हें मयंक की तरह अपने खेल व फिटनेस पर लगातार काम करना होगा।

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।