close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

टेस्ट क्रिकेट में इन बल्लेबाजों ने खेली हैं सबसे ज्यादा गेंदें

क्रिकेट के सबसे पुराने प्रारूप टेस्ट क्रिकेट को आज भी सबसे अहम माना जाता है। जिसके पीछे सबसे बड़ी वजह इसमें खिलाड़ियों की असल पहचान होना है। जब तक एक खिलाड़ी खुद को टेस्ट क्रिकेट में साबित नहीं करता उसे महान बल्लेबाज का तमगा मिल पाना बेहद कठिन है। क्रिकेट इतिहास के दिग्गज बल्लेबाज को लेकर यदि बात की जाए तो सभी का टेस्ट क्रिकेट में शानदार रिकॉर्ड देखने को मिलता है।

टेस्ट क्रिकेट में बल्लेबाजों के धैर्य की अग्निपरीक्षा होती है, जहां पर उन्हें पिच पर अधिक से अधिक समय बिताते हुए एक बड़ा स्कोर बनाना होता है। इसी के चलते हमने टेस्ट क्रिकेट में ब्रायन लारा जैसे खिलाड़ी को 500 रन अकेले बनाते हुए देखा है। अभी तक टेस्ट क्रिकेट में समय के साथ कई तरह के बदलाव होते हुए भी देखे गए हैं, जिसमें डे-नाइट टेस्ट भी शामिल हुआ है।

हालांकि इसके बावजूद वनडे और टी-20 क्रिकेट के रोमांच से कहीं ज्यादा रोमांचक टेस्ट क्रिकेट में फैंस को आता है। 5 दिन तक चलने वाले एक मैच के नतीजे के लिए टीमों के लगातार सत्र दर सत्र अच्छा प्रदर्शन करके दिखाना होता है। जिसके बाद हम आपको टेस्ट इतिहास के टॉप-5 ऐसे बल्लेबाजों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में सबसे ज्यादा गेंदे खेलने का रिकॉर्ड बनाया है।

5 – एलन बॉर्डर ( 27002 गेंदें)

ऑस्ट्रेलियन टीम के पूर्व कप्तान और टेस्ट क्रिकेट के दिग्गज बल्लेबाजों की लिस्ट में शामिल एलन बॉर्डर अभी टेस्ट इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में 10वें नंबर पर मौजूद हैं। साल 1978 से लेकर 1984 तक ऑस्ट्रेलियाई टीम के लिए एलन बॉर्डर ने 156 टेस्ट मैचों की 265 पारियों में 50.56 के शानदार औसत के साथ 11174 रन बनाए हैं।

वहीं बॉर्डर ने अपने टेस्ट करियर के दौरान कुल 27002 गेंदे भी खेली है। वहीं बॉर्डर के नाम टेस्ट क्रिकेट में 27 शतक और 63 अर्धशतकीय पारियां भी दर्ज हैं होने के साथ उन्होंने 2 दोहरे शतक भी लगाए हैं।

4 – शिवनारायण चंद्रपॉल ( 27395 गेंदें)

वेस्टंइडीज़ टीम के लिए लंबे समय तक सबसे भरोसेमंद खिलाड़ियों में से एक शिवनारायण चंद्रपॉल ने अपने क्रिकेट करियर के दौरान कई दिग्गज गेंदबाजों का सामना किया। पिच पर बिल्कुल अलग तरह से खड़े होने के अंदाज के चलते वह गेंदबाजों को रणनीति में बदलाव करने पर विवश कर देते थे।

चंद्रपॉल टेस्ट इतिहास के सफल और महान बल्लेबाजों में से एक माने जाते हैं। विंडीज़ टीम के लिए साल 1994 से लेकर 2015 तक शिवनारायण चंद्रपॉल ने 164 टेस्ट मैचों की 280 पारियों में 51.80 के औसत के साथ कुल 11867 रन बनाए हैं। इसके अलावा उन्होंने अपने टेस्ट करियर के दौरान कुल 27395 गेंदे भी खेली हैं।

3 – जैक कैलिस (28903 गेंदें)

विश्व क्रिकेट के सबसे सफल ऑलराउंडर खिलाड़ियों में से एक माने जाने वाले दक्षिण अफ्रीका के पूर्व दिग्गज खिलाड़ी जैक कैलिस अपने बल्ले और गेंद से शानदार प्रदर्शन करते थे। जैक कैलिस ने जहां अफ्रीका टीम के लिए टेस्ट क्रिकेट में लंबे समय तक नंबर 3 पर बल्लेबाजी करते हुए लंबी पारियां खेली तो वहीं उन्होंने एक मध्यम गति गेंदबाज होने के नाते महत्तवपूर्ण समय पर टीम को सफलता भी दिलाई है।

जैक कैलिस ने साल 1995 से लेकर 2013 तक टेस्ट क्रिकेट में 166 मैंचों की 280 पारियों में बल्लेबाजी करते हुए 55.37 के शानदार औसत के साथ 13289 रन बनाए हैं। वहीं उन्होंने इस दौरान टेस्ट क्रिकेट में कुल 28903 गेंदे खेली हैं। कैलिस वर्तमान में टेस्ट इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों की लिस्ट में तीसरे पायदान पर मौजूद हैं।

2 – सचिन तेंदुलकर ( 29437 गेंदें)

टेस्ट इतिहास के एकलौते खिलाड़ी जिन्होंने 200 टेस्ट मैच खेले और लंबे समय तक भारतीय क्रिकेट टीम की बल्लेबाजी का बोझ अपने कंधों पर उठाने वाले महान खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर मौजूदा समय में टेस्ट इतिहास में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी भी हैं।

साल 1989 में टेस्ट डेब्यू करने के बाद साल 2013 तक सचिन ने 200 टेस्ट मैचों की 329 पारियों में 53.79 के औसत के साथ 15921 रन बनाए हैं। वहीं सचिन ने अपने टेस्ट करियर के दौरान कुल 29437 गेंदों का सामना किया है। सचिन के नाम जहां टेस्ट क्रिकेट में 68 अर्धशतकीय पारियां दर्ज हैं तो वहीं उन्होंने 51 शतक भी लगाए हैं। वहीं उन्होंने अपने 6 शतकों को दोहरे शतक में भी तब्दील किया है।

1 – राहुल द्रविड़ ( 31258 गेंदें)

टेस्ट क्रिकेट में द वॉल के नाम से पहचाने जाने वाले भारतीय टीम के पूर्व खिलाड़ी राहुल शरद द्रविड़ ने विदेशी धरती पर अपनी बल्लेबाजी के दम पर कई बार टीम को शर्मनाक स्थिति से बचाने का काम किया है। एक छोर पर दीवार की तरह खड़े रहने वाले द्रविड़ को लंबी पारियां खेलने के लिए पहचाना जाता था। साल 1996 में इंग्लैंड के खिलाफ लॉर्ड्स के मैदान में डेब्यू करने के बाद द्रविड़ ने साल 2012 तक भारतीय टीम के लिए टेस्ट क्रिकेट में खेला।

इस दौरान द्रविड़ ने कुल 164 टेस्ट मैचों की 286 पारियों में बल्लेबाजी करते हुए 52.31 के औसत के साथ 13288 रन बनाए हैं। द्रविड़ ने अपने टेस्ट करियर में 63 अर्धशतकीय पारियां खेलने के साथ 36 शतक भी लगाए हैं। वहीं उन्होंने अपने टेस्ट करियर में कुल 31258 गेंदों का सामना भी किया है।

Leave a Response