close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गए वो पांच शानदार मैच, जिन्हें भुलाना है नामुमकिन

क्रिकेट के इतिहास में कई ऐसे मुकाबले हुए हैं जहां दोनों टीमों के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिली है। लेकिन अगर मुकाबला भारत और पाकिस्तान के बीच हो तो क्रिकेट का रोमांच अपनी सभी हदें पार कर जाता है। आज भी भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच को दूसरी जंग के रूप में देखा जाता है। यही कारण है कि फैन्स की नजर में भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गए मैच का महत्व काफी अधिक है। आज हम आपको भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गए ऐसे ही पांच मैचों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें याद कर फैन्स के रोंगटे खड़े हो जाते हैं।

1. आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017 फाइनल मुकाबला

साल 2017 में खेली गई चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान भी भारत और पाकिस्तान के बीच हाई वोल्टेज ड्रामा देखने को मिला था। इस ट्रॉफी में पाकिस्तान को कमजोर टीमों के रूप में देखा जा रहा था लेकिन उसने फाइनल जीतकर हर किसी को हैरान कर दिया। इस टूर्नामेंट के फाइनल मैच में पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 339 रनों का स्कोर बनाया था। भारतीय बल्लेबाजों को देख कर लग रहा था कि वो इस लक्ष्य को हासिल कर लेंगे। लेकिन पाकिस्तान के बेहतरीन गेंदबाज मोहम्मद आमिर की गेंदबाजी भारतीय बल्लेबाजों पर कहर बनकर टूटी और इस मैच को पाकिस्तान ने आसानी से जीत लिया।

2. आईसीसी टी-20 वर्ल्डकप 2007 फाइनल

महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में भारत को मिला पहला टी-20 विश्वकप भला किसे नहीं याद होगा। फाइनल मुकाबले में भारत के सामने चिर-प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान की टीम थी। इस मैच में भारत ने 157 रनों का स्कोर खड़ा किया था। जिसमें सबसे ज्यादा रन गौतम गंभीर ने बनाए थे, उन्होंने इस मैच में 75 रनों की शानदार पारी खेली थी। वहीं जब पाकिस्तान की टीम बल्लेबाज़ी कर रही थी, तो उसके सभी विकेट सस्ते में ही आउट हो गए थे। क्रीज पर मौजूद मिसबाह उल हक के सामने टीम को एक शानदार जीत दिलाने का मौका था और उन्हें 6 गेंदों में 13 रन चाहिए थे। लेकिन अंतिम ओवर में जोगिंदर शर्मा की चमत्कारी गेंदबाजी ने यह मैच भारत की झोली में डाल दिया। दरअसल जोगिंदर शर्मा की दूसरी गेंद पर छक्का मारने के बाद तीसरी गेंद पर मिसबाह अपना कैच श्रीसंथ को थमा बैठे थे।

3. वर्ल्डकप 2003 (लीग स्टेज)

इस मकुाबले को 2003 विश्व कप के सबसे बेहतरीन मुकाबलों में गिना जाता है। मैच में सचिन तेंदुलकर ने अपनी शानदार बल्लेबाजी से सबका दिल जीत लिया था। सचिन ने पाकिस्तान की रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर शोएब अख्तर को को ‘पैसेंजर ट्रेन’ में तब्दील कर दिया था। सचिन मुकाबले में शतक से चूक गए थे। उन्होंने इस मैच में 98 रनों की पारी खेली थी। इस दौरान सचिन ने 75 गेंदों का सामना करते हुए 12 चौके और 1 छक्का भी जड़ा था। सचिन और युवराज़ सिंह की अर्द्धशतकीय पारी की बदौलत भारत ने यह मैच 6 विकेट से जीत लिया था।

4. विल्स कप 1996

विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में भारत का सामना पाकिस्तान से था। रोमांचक मुकाबले की उम्मीद सभी को थी लेकिन मैच में कई ऐसी बातें हुईं जिन्हें दर्शक आज भी भूला नहीं पाए होंगे। आजय जडेजा की तूफानी पारी के साथ इस मैच को आमिर सोहेल और वेंकटेश प्रसाद के कारण याद किया जाता है। इस मैच के दौरान पाकिस्तानी बल्लेबाज़ आमिर सोहेल और भारतीय तेज़ गेंदबाज वेंकटेश के बीच जबरदस्त गर्मागर्मी देखने को मिली थी। जिसके बाद वेंकटेश प्रसाद ने आमिर को अगली ही गेंद पर पवेलियन भेज कर करारा जवाब दिया था। इस विकेट के बाद भारत ने मैच में अपना दबदबा कायम रखते हुए पाकिस्तान को वापसी का कोई मौका नहीं दिया और 39 रनों से शानदार जीत अर्जित की।

5. ऑस्ट्रेलिया-एशिया कप 1986

यह मैच भारत और पाकिस्तान के बीच खेला गया टूर्नामेंट का फाइनल मैच था जिसे अब तक का सबसे यादगार मुकाबला भी कहा जा सकता है। हालांकि इस मैच के साथ भारत की बुरी यादें भी जुड़ी हैं क्योंकि इस मैच में पाकिस्तान के जावेद मिंयादाद ने भारत के मुंह से जीत छीन ली थी। दरअसल मैच के अंतिम ओवर में जब पाकिस्तान को जीत के लिए 11 रन चाहिए थे, तब क्रीज पर शतक लगाकर जावेद मिंयादाद खेल रहे थे। उनके सामने भारत के चेतन शर्मा थे। जिन्होंने काफी अच्छी गेंदबाजी की थी लेकिन ओवर की अंतिम गेंद पर मिंयादाद ने बेहतरीन छक्का लगाकर जीत पाकिस्तान की झोली में डाल दी थी।

Leave a Response