close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में केविन पीटरसन की 5 शानदार पारियां

 इंग्लैंड टीम के पूर्व खिलाड़ी केविन पीटरसन को भले ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा किए समय हो गया है, लेकिन उनकी गिनती अभी भी आक्रामक खिलाड़ियों में की जाती है। पीटरसन को इंग्लैंड की तरफ से खेलने वाले सबसे असरदार बल्लेबाजों में से एक माना गया है। पीटरसन जब भी मैदान में होते हैं, तो टीम का आत्मविश्वास अलग ही तरह का दिखाई देता है, और वह तीनों ही फॉर्मेट में बेहद सफल खिलाड़ी रहे। 

केविन पीटरसन इंग्लैंड के लिए 104 टेस्ट मैचों में खेलते हुए 47.28 के औसत से 8,181 रन बनाने में कामयाब रहे, जिसमें 23 शतक और 35 अर्धशतकीय पारियां शामिल हैं। वहीं पीटरसन ने 136 वनडे मैचों में 40.73 के औसत से 4,440 रन बनाए। जबकि टी-20 की बात की जाए तो वहां पर पीटरसन ने 1,176 रन 141.51 के स्ट्राइक रेट से बनाए। आईये जानते हैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में केविन पीटरसन की पांच शानदार पारियों के बारे में। 

5 – बनाम ऑस्ट्रेलिया (साल 2010, 227 रन) 

साल 2010-11 में खेली गई एशेज सीरीज के दूसरे मैच में केविन पीटरसन के बल्ले से एक शानदार दोहरे शतक की पारी देखने को मिली। इस सीरीज का पहला टेस्ट मैच ड्रॉ पर खत्म होने के बाद इंग्लैंड टीम के कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस की नजर दूसरे टेस्ट में जीत पर थी। इसके बाद ऑस्ट्रेलिया टीम की पहली पारी को इंग्लैंड के गेंदबाजों ने एडिलेड के मैदान पर 245 रनों पर ही समेट दिया।  

यहां इंग्लैंड के पास टेस्ट मैच जीतने का अच्छा मौका था, लेकिन कप्तान स्ट्रॉस का विकेट टीम ने जल्दी ही गंवा दिया। लेकिन इसके बाद पीटरसन और एलिस्टर कुक की पारियों ने टीम को बेहद मजबूत स्थिति में पहुंचाने का काम किया। जिसमें कुक ने तो 148 रनों की पारी खेली, लेकिन पीटरसन ने 227 रन बना दिए। इसके चलते इंग्लैंड ने इस मैच को एक पारी और 71 रनों से अपने नाम किया था। 

4 – बनाम ऑस्ट्रेलिया (साल 2005, 91 रन) 

साल 2005 में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली गई वनडे सीरीज के तीसरे मैच में केविन पीटरसन ने टीम के लिए मैच विनिंग पारी खेली थी। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया टीम ने पहले खेलते हुए 50 ओवरों में 9 विकेट के नुकसान पर 252 रन बनाए थे। इसके बाद लक्ष्य का पीछा करने उतरी इंग्लैंड की टीम ने 150 के स्कोर तक 5 विकेट गंवा दिए थे। लेकिन एक छोर से पीटरसन ने पारी को संभालते हुए रन बनाना जारी रखा और अंत में 91 रन बनाते हुए टीम को 3 विकेट से जीत दिलाकर वापस लौटे। 

3 – बनाम दक्षिण अफ्रीका (साल 2005, 108 रन) 

दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के बीच साल 2005 में ब्लॉमफोन्टेन के मैदान में खेला गया वनडे मैच भले ही बराबरी पर खत्म हुआ, लेकिन इस मैच में पीटरसन की पारी से सभी काफी प्रभावित हुए थे। इस मैच में इंग्लैंड टीम ने पहले बल्लेबाजी की, जिसमें टीम ने 67 के स्कोर तक अपने 3 महत्वपूर्ण विकेट गंवा दिए थे। लेकिन पीटरसन की 96 गेंदों में 108 रनों की पारी के चलते इंग्लैंड 50 ओवरों में 5 विकेट के नुकसान पर 270 रन बनाने में कामयाब रही थी। 

2 – बनाम ऑस्ट्रेलिया (साल 2005, 158 रन) 

इंग्लैंड टीम को 18 साल के बाद एशेज वापस दिलाने में पीटरसन की इस पारी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इस टेस्ट मैच में इंग्लैंड टीम की दूसरी पारी में उन्होंने अपने 5 विकेट सिर्फ 126 के स्कोर पर ही गंवा दिए थे। इसके चलते पहली पारी में सिर्फ 14 रन बनाने वाले पीटरसन के कंधों पर बड़ी पारी खेलने की जिम्मेदारी थी। क्योंकि इंग्लैंड इस मैच को ड्रॉ या जीत के साथ खत्म करते हुए एशेज को वापस पा लेती। जिसके बाद पीटरसन ने 158 रनों की पारी खेलते हुए टीम को एशेज वापस दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की थी। इस कारण उनकी यह पारी हमेशा शानदार पलों में से एक मानी जाती है। 

1 – बनाम भारत (साल 2012, 186 रन) 

भारतीय पिचों पर खेलना किसी भी विदेशी टीम के बल्लेबाजों के लिए कभी आसान काम नहीं रहा है। लेकिन केविन पीटरसन ने साल 2012 में सभी को गलत साबित करते हुए 186 रनों की पारी खेल दी। इस मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 327 रन बनाए थे। जिसके बाद इंग्लैंड टीम ने पीटरसन की इस पारी के चलते 413 का स्कोर बना दिया और बाद में मैच को 10 विकेट से अपने नाम भी किया था। 

क्या चेतेश्वर पुजारा को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज में मौका मिलना चाहिए?

Leave a Response