close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 5 ऐसे खिलाड़ी जिन्होंने समय से पहले लिया संन्यास

किसी भी खिलाड़ी के लिए उसके करियर में संन्यास लेने का फैसला काफी महत्वपूर्ण होता है जिसमें कई महान खिलाड़ियों ने अपने करियर में यह फैसला सही समय पर लेते हुए इसे साबित भी किया है। लेकिन वहीं कुछ खिलाड़ी ऐसे भी देखने को मिले हैं, जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को समय से पहले ही अलविदा कह दिया। जिसके बाद हम आपको ऐसे ही 5 खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं। 

 जोनाथन ट्रॉट (इंग्लैंड) 

जोनाथन ट्रॉट इंग्लैंड टीम के लिए टेस्ट क्रिकेट में एक बेहद ही महत्वपूर्ण खिलाड़ी थे। ट्रॉट टीम के लिए नंबर 3 पर खेलते हुए पूरी पारी को एक छोर से संभालने की जिम्मेदारी को निभाते थे। जोनाथन ने अपने करियर में 52 टेस्ट मैच खेलते हुए 44.08 के औसत से 3,835 रन बनाए। इसके अलावा ट्रॉट ने वनडे में भी 51.25 के औसत से 2,819 रन बनाए हैं। लेकिन दाएं हाथ के इस बल्लेबाज ने 34 साल की उम्र में अचानक मानसिक स्वास्थ्य को कारण बताते संन्यास लेने का फैसला किया जिससे सभी को काफी अचम्भा हुआ था। 

 सर एलिस्टर कुक (इंग्लैंड) 

इंग्लैंड टीम के पूर्व कप्तान और खब्बू बल्लेबाज सर एलिस्टर कुक ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को 33 साल की उम्र में ही अलविदा कह दिया था। कुक ने इंग्लैंड के लिए 161 टेस्ट मैचों में खेलते हुए 12,472 रन बनाए हैं। वहीं अपने करियर के आखिरी टेस्ट मैच में कुक ने भारत के खिलाफ 147 रनों की शानदार पारी भी खेली थी। कुक अभी तक इंग्लैंड के लिए टेस्ट क्रिकेट में 10,000 से अधिक रन बनाने वाले एकलौते खिलाड़ी हैं। वहीं कुक ने 92 वनडे मैचों में खेलते हुए 36.41 के औसत से 3,204 रन भी बनाए हैं। 

 ब्रैंडन मैक्कुलम (न्यूजीलैंड) 

न्यूजीलैंड टीम के पूर्व कप्तान और दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज ब्रैंडन मैक्कुलम की बल्लेबाजी के फैन अभी भी पूरे क्रिकेट जगत में मिल जाएंगे। मैक्कुलम एक दशक तक कीवी टीम के बेहद महत्वपूर्ण खिलाड़ी रहे हैं। उन्होंने अपने करियर में 101 टेस्ट, 260 वनडे और 71 टी-20 मैच खेले हैं। जिसमें मैक्कुलम ने 6,453 रन टेस्ट क्रितेट में जबकि 6,083 रन वनडे क्रिकेट में वहीं टी-20 में 2,140 रन बनाए हैं। लेकिन इस महान खिलाड़ी ने सिर्फ 34 साल की उम्र में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया जिससे करोड़ो फैंस का दिल जरूर टूट गया था। 

 ग्रीम स्मिथ (दक्षिण अफ्रीका) 

दक्षिण अफ्रीका क्रिकेट टीम को अपनी कप्तानी में एक बेहद मजबूत टीम बनाने वाले बाएं हाथ के बल्लेबाज ग्रीम स्मिथ ने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में कुल 117 टेस्ट, 197 वनडे और 33 टी-20 मैच खेले हैं। स्मिथ ने टेस्ट क्रिकेट में जहां 9,265 रन बनाए वहीं वनडे में 7,000 के करीब रन बनाने में कामयाब रहे हैं। इसके अलावा टी-20 में स्मिथ ने 982 रन बनाए हैं। लेकिन इन सबसे कहीं ज्यादा वह एक कप्तान के रूप में बेहद सफल थे जिसके चलते सिर्फ 33 साल की उम्र में उनके संन्यास लेने के फैसले से सभी को आश्चर्य हुआ। 

 एबी डी विलियर्स (दक्षिण अफ्रीका) 

पिछले कुछ सालों में यदि किसी खिलाड़ी के संन्यास लेने के फैसले की चर्चा पूरे क्रिकेट जगत में देखने को मिली है, तो वह अफ्रीका टीम के पूर्व कप्तान और मिस्टर 360 डिग्री के नाम से पहचाने जाने वाले एबी डी विलियर्स का है। साल 2019 के वनडे से ठीक पहले एबी डी विलियर्स ने संन्यास का फैसला लिया था लेकिन बाद में उन्होंने अपने फैसले को फिर से बदला हालांकि साउथ अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड ने उन्हें टीम में वापस ना लेने का फैसला किया। 

वहीं डी विलियर्स की वापसी को लेकर लगातार चर्चा होती रही जिसमें साउथ अफ्रीका क्रिकेट बोर्ड ने कई बार बात भी लेकिन साल 2018 में संन्या लेने के बाद वह फिर से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापस नहीं लौटे। अफ्रीका के लिए 114 टेस्ट, 228 वनडे और 78 टी-20 मैच खेलने वाले डी विलियर्स ने टेस्ट में 8,765 रन, वनडे में 9,577 रन बनाए हैं, जिसमें टेस्ट और वनडे दोनों में उनका बल्लेबाजी औसत से अधिक रहा है। वहीं टी-20 में डी विलियर्स ने 1,672 रन 135.17 के स्ट्राइक रेट के साथ बनाए हैं। 

इंग्लैंड में डेब्यू टेस्ट में इन 5 खिलाड़ियों ने बनाए सर्वाधिक रन

Leave a Response