close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

स्वर्णिम पलः महिला क्रिकेट में खेले गए एकमात्र डे-नाइट टेस्ट मैच का ये रहा था परिणाम

भारतीय महिला क्रिकेट को साल 2021 के आखिर में ऑस्ट्रेलिया महिला क्रिकेट टीम के खिलाफ पिंक बॉल टेस्ट मैच खेलना है। यह भारतीय महिला क्रिकेट टीम के इतिहास का पहला डे-नाइट टेस्ट मैच होगा। वहीं महिला क्रिकेट में भी अभी तक सिर्फ 1 बार ही डे-नाइट टेस्ट मैच खेला गया है, जो ऑस्ट्रेलियाई महिला टीम और इंग्लैंड महिला टीम के बीच हुआ था।

दोनों ही टीमों के बीच महिला टेस्ट इतिहास का पहला डे-नाइट टेस्ट मैच साल 2017 में सिडनी के मैदान में खेला गया था। इस टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलिया की तरफ से एलिस पैरी को उनके शानदार प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ दी मैच का खिताब दिया गया था। वहीं मैच का परिणाम ड्रॉ पर खत्म हुआ था।

इंग्लैंड महिला टीम ने टॉस जीतकर चुनी बल्लेबाजी

इंग्लैंड महिला क्रिकेट टीम की कप्तान हीथर नाइट ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था। जिसके बाद इंग्लैंड के लिए टैमी ब्यूमोंट ने 70 रन, तो वहीं कप्तान नाइट ने 62 रनों को पारी खेली। इसकी बदौलत इंग्लैंड की टीम पहली पारी में 280 रन तक पहुंचने में कामयाब रही। वहीं ऑस्ट्रेलिया की तरफ से पहली पारी में एलिस पैरी ने 3 तो मेगन सूट, टी मैक्ग्रा और जेस जॉनसन ने 2-2 विकेट हासिल किए थे।

ऑस्ट्रेलिया ने 448 पर घोषित की पारी

ऑस्ट्रेलिया टीम ने अपनी पहली पारी में शुरुआती 3 विकेट सिर्फ 61 के स्कोर पर ही गंवा दिए थे। इसके बाद एक छोर को एलिस पारी ने संभालते हुए पहले हीली और फिर मैक्ग्रा के साथ शतकीय साझेदारी करते हुए टीम को 448 के स्कोर तक पहुंचाने में अहम भूमिका अदा की थी। पैरी ने मैच में 374 गेंदों में 213 रन बनाए, जबकि हीली ने 45 और मैकग्रा ने 47 रनों की पारी खेली थी। इंग्लैंड के लिए पहली पारी में लौरा मार्श और सोफी एक्लेस्टोन ने 3-3 विकेट हासिल किए थे।

कप्तान नाइट ने मैच ड्रॉ कराने में निभाई अहम भूमिका

पहली पारी में बढ़त के मामले में पिछड़ने के बाद इंग्लैंड महिला टीम पर हार का खतरा मंडराने लगा था। जिसके बाद टैमी ब्यूमोंट और लौरा हिल ने पहले विकेट के लिए 71 रनों की साझेदारी। इसके बाद बल्लेबाजी करने उतरी कप्तान हीथर नाइट ने तीसरे विकेट के लिए जॉर्ज एल्विस के साथ मिलकर 117 रनों की नाबाद साझेदारी करते हुए मैच को ड्रॉ करवाने में अहम भूमिका अदा की। इस साझेदारी में दोनों ने मिलकर कुल 380 गेंदों का सामना किया था।

Leave a Response