close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

जानिए RCB टीम में शामिल होने वाले आकाश दीप के बारे में महत्वपूर्ण बातें

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2021 के फेज-2 की शुरुआत 19 सितंबर से यूएई में होगी जिसको लेकर सभी फ्रेंजाइजी यूएई पहुंच गई हैं। IPL 2021 के सीजन को भारत में मई महीने में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते बीच में ही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित करने का फैसला किया गया था और उस समय कुल 31 मैच खेले जाने बाकी थी।

अब भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने बाकी मैच यूएई में कराने का फैसला किया है, लेकिन इस दौरान कई खिलाड़ियों ने जहां अपनी अनुपलब्धता को लेकर पहले ही अपनी-अपनी फ्रेंचाइजियों को सूचित कर दिया है, तो वहीं कुछ खिलाड़ी चोटिल होने के चलते सीजन के बाकी बचे मैचों में हिस्सा नहीं ले पायेंगे। इसी में एक नाम रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) के हरफनमौला खिलाड़ी वाशिंगटन सुंदर का है, जो चोटिल होने के चलते बाहर हो गए हैं।

RCB की टीम ने उनकी जगह बंगाल के तेज गेंदबाज आकाश दीप को अपनी टीम में शामिल करने का फैसला किया है। इस खिलाड़ी के बारे में अभी क्रिकेट जगत में किसी ने भी अधिक नहीं सुना है, जिसके बाद हम आपको आकाश दीप के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें बताने जा रहे हैं।

पिछले 2 साल से नेट गेंदबाज के तौर पर जुड़े थे

आकाश दीप पिछले 2 सालों से लगातार रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर टीम के साथ बतौर नेट गेंदबाज के रूप में जुड़े हुए थे। आकाश का जन्म बिहार में हुआ था लेकिन बाद में वह बंगाल जाकर बस गए ताकि अपने सपने को पूरा कर सकें। आकाश ने साल 2010 में बंगाल पहुंचने के बाद वहां एक एकेडमी से जुड़ गए जहां पर वह बल्लेबाजी सीख रहे थे, लेकिन बाद में उनकी कद-काठी को देखते हुए गेंदबाज के तौर पर करियर को आगे बढ़ाने का फैसला किया।

पिता की मौत के बाद 3 साल तक नहीं खेला क्रिकेट

एक तरफ जहां दुर्गापुर में आकाश अपने क्रिकेट के सपने को पूरा करने की कोशिशों में लगे हुए थे, तो वहीं दूसरी तरफ उनके जीवन में अचानक दुखों का सैलाब आ गया। इसमें पहले आकाश के पिता की मृत्यु दिल का दौरा पड़ने की वजह से हुई, वहीं इसके 2 महीने के बाद आकाश के बड़े भाई की भी मृत्यु हो गई, जिससे पूरे परिवार की जिम्मेदारी अचानक आकाश के कंधों पर आ गई थी और इस कारण वह लगभग 3 साल तक क्रिकेट से दूर रहे थे।

श्रीवत्स गोस्वामी ने की तारीफ

कुछ ऐसा रहा अभी तक घरेलू करियर

आकाश दीप को साल 2019 में बंगाल की अंडर-23 टीम से खेलने का मौका मिला जिसके बाद उन्हें सयैद मुश्ताक अली ट्रॉफी के लिए भी चुन लिया गया। इसके कुछ महीने बाद आकाश दीप को उस समय प्रथम श्रेणी डेब्यू करने का मौका मिल गया जब टीम के सीनियर तेज गेंदबाज अशोक डिंडा को टीम के कोच राणादेब बोस से कुछ विवाद के चलते निकाल दिया गया था और इससे आकाश दीप को रणजी ट्रॉफी में डेब्यू करने का मौका मिल गया था।

अभी तक आकाश दीप के प्रथम श्रेणी करियर को देखा जाए तो उन्होंने 9 मैचों में 35 विकेट हासिल किए हैं, जिसमें एक मैच में 104 रन देकर 7 विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। इसके अलावा लिस्ट ए करियर में आकाश दीप ने 11 मैचों में 17 विकेट जबकि उनके नाम 21 टी-20 विकेट भी दर्ज हैं।

Leave a Response