close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

आईपीएल 20201, टीम प्रिव्यू – हल्लाबोल के लिए तैयार है राजस्थान रॉयल्स

इंडियन प्रीमियर लीग का पहला सीजन साल 2008 में खेला गया था और किसी को भी उम्मीद नहीं थी, कि पहली सीजन में ही राजस्थान रॉयल्स की टीम सभी को गलत साबित करते हुए खिताब अपने नाम पर करेगी। जिसकी सबसे बड़ी वजह टीम में अधिकतर युवा खिलाड़ियों का शामिल होना था। लेकिन पहले सीजन में मिली सफलता को राजस्थान रॉयल्स की टीम 13 सीजन बीत जाने के बार फिर से नहीं दोहरा सकी।

अब राजस्थान रॉयल्स की नजर 14वें सीजन में फिर से खिताब अपने नाम पर करने के इरादे से मैदान में उतरेगी। टीम के लिए पिछला सीजन बेहद खराब बीता था और अंक तालिका में टीम अंतिम पायदान पर रही थी। जिसके बाद टीम मैनेजमैंट ने इस प्रदर्शन को देखने के बाद 14वें सीजन से पहले बड़ा बदलाव करते हुए जहां स्टीव स्मिथ को कप्तानी से हटाया तो वहीं उनको रिलीज करने का भी फैसला किया।

इसके अलावा टीम ने कई और खिलाड़ियों को भी रिलीज करने का फैसला किया। जिसके बाद नीलामी प्रक्रिया के दौरान क्रिस मौरिस को खरीदने के लिए 16 करोड़ 25 लाख की रकम खर्च कर दी। इसके अलावा टीम के साथ इस सीजन मुस्ताफिजुर रहमान और लियम लिविंगस्टोन विदेशी खिलाड़ियों के तौर पर शामिल किए गए हैं।

बल्लेबाजी क्रम में कई मैच विनर खिलाड़ी

राजस्थान रॉयल्स टीम का इस सीजन बल्लेबाजी क्रम देखा जाए तो टीम के पास ऐसे खिलाड़ी है, जो विश्व की मजबूत गेंदबाजी क्रम को भी तहस-नहस कर सकते हैं। कप्तान संजू सैमसन और मनन वोहरा के पास आईपीएल में खेलने का अच्छा खासा अनुभव है। वहीं पिछले सीजन टीम के साथ जुड़े यशस्वी जायसवाल भी अपने दम पर मैच जिता सकते हैं और ऐसा उन्होंने भारतीय अंडर-19 टीम के लिए खेलते हुए कई बार किया है।

इसके अलावा टीम के पास बेन स्टोक्स और जॉस बटलर के तौर पर ऐसे खिलाड़ी हैं, जो अपने दिन पर अकेले मैच खत्म करने का दम रखते हैं और अब क्रिस मौरिस के टीम में शामिल होने से अंतिम ओवरों में टीम के पास एक ऐसा खिलाड़ी है, जो लंबे शॉट आसानी से खेल सकता है। इस सीजन शिवम दूबे भी राजस्थान रॉयल्स टीम का हिस्सा हैं और डेविड मिलर के पहले से टीम में होने से टीम के पास अच्छे फिनिशर भी मौजूद हैं।

जोफ्रा आर्चर पर अधिक निर्भरता पड़ सकती है भारी

आईपीएल के पिछले सीजन में जोफ्रा आर्चर ने अपने प्रदर्शन से सभी को प्रभावित किया था, जिसमें उन्होंने ना सिर्फ गेंद से बल्कि बल्ले से भी कमाल दिखाया था। हालांकि आर्चर इस सीजन के शुरूआती कुछ मैचों में अनफिट होने की वजह से नहीं खेलेंगे। जिसके चलते टीम के पास आर्चर की कमी को पूरा करने का विकल्प मौजूद नहीं है और यह टीम पर भारी भी पड़ सकती है।

टीम के पास इस सीजन क्रिस मौरिस जरूर मौजूद हैं, लेकिन वह गेंदबाजी में कितना कमाल दिखा पाएंगे इसका अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है। वहीं टीम मैनेजमैंट पहले ही इस बात को साफ कर चुका है कि बेन स्टोक्स इस सीजन अधिक गेंदबाजी करते हुए नहीं दिखाई देंगे क्योंकि वह उनपर अधिक दबाव नहीं डालना चाहते हैं।

संजू सैमसन पर खुद को साबित करने का दबाव

इस सीजन राजस्थान रॉयल्स की टीम नए कप्तान के साथ दूसरी बार खिताब जीतने के इरादे से खेलने उतरेगी। संजू सैमसन पिछले काफी सीजन से राजस्थान टीम का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं और लगातार टीम के लिए अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं, जिसके चलते टीम मैनेजमैंट ने उन्हें ही यह जिम्मेदारी सौंपने का फैसला किया।

लेकिन संजू के पास कप्तान के तौर पर अधिक अनुभव नहीं है और यह टीम के प्रदर्शन पर भी भारी पड़ सकता है। हालांकि संजू ने घरेलू क्रिकेट में केरल टीम की कप्तानी की है, लेकिन आईपीएल में कप्तान के तौर पर खेलना बिल्कुल एक अलग चैलेंज है। पिछले सीजन पंजाब किंग्स भी लोकेश राहुल की कप्तान में खेलने उतरी थी और टीम पहले हाफ में बेहद खराब प्रदर्शन करती हुए दिखाई दी।

राजस्थान रॉयल्स की मजबूत प्लेइंग 11

यशस्वी जायसवाल, लियाम लिविंगस्टोन, रियान पराग, बेन स्टोक्स, राहुल तेवतिया, क्रिस मौरिस, श्रेयस गोपाल, संजू सैमसन (कप्तान, विकेटकीपर), जॉस बटलर, जयदेव उनादकट, कार्तिक त्यागी।

Leave a Response