close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

क्या हार्दिक पांड्या का टेस्ट करियर खत्म हो गया?

इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन को भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर को देखते हुए बीच में ही अनिश्चितकाल के लिए स्थगति कर दिया गया। जिसके बाद अब सभी फैंस की नजरें 18 जून से इंग्लैंड के साउथैम्पटन मैदान में न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाले विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले पर है, जिसको लेकर 20 सदस्यों वाली भारतीय टीम का ऐलान भी कर दिया गया है। इस टीम में सबसे ज्यादा हैरानी उस समय हुई जब हार्दिक पांड्या को टीम में जगह नहीं मिली।

हार्दिक भारतीय क्रिकेट टीम के लिए मौजूदा समय में लिमिटेड ओवर्स में सबसे ज्यादा आक्रामक बल्लेबाज माने जाते हैं। वहीं हार्दिक ने इंडियन प्रीमियर लीग के 14वें सीजन में भी अपनी बल्लेबाजी से मुंबई इंडियंस के लिए महत्वपूर्ण पारी खेलते हुए दिखाई दिए। हालांकि वह लगातार भारती टेस्ट टीम के अंतिम एकादश का हिस्सा नहीं रहे, जिसके चलते उन्हें इस दौरे से बाहर रखा गया है।

अभी तक ऐसा रहा टेस्ट करियर

हार्दिक पांड्या के टेस्ट करियर को लेकर बात की जाए तो उन्होंने अभी तक 11 टेस्ट मैचों की 18 पारियों में 31.29 के औसत से 532 रन बनाए हैं, जिसमें एक शतक के साथ 4 अर्धशतकीय पारियां भी शामिल हैं। इसके अलावा गेंदबाजी में हार्दिक ने 17 विकेट भी हासिल किए हैं। हार्दिक के इस प्रदर्शन को देखने के बाद वह टीम के लिए एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी नजर आते हैं।

लेकिन यह पूरी कहानी को बयां नहीं करती है, हार्दिक ने अपने टेस्ट करियर की शानदार शुरूआत करते हुए श्रीलंका के खिलाफ गाले में नंबर 8 पर बल्लेबाजी करते हुए जहां अर्धशतक लगाया वहीं इसके बाद सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच में हार्दिक ने शानदार 108 रनों की पारी खेलते हुए टीम की जीत में अहम योगदान दिया। इसके अलावा हार्दिक ने इंग्लैंड के खिलाफ साल 2018 में नॉटिंघम में 5 विकेट एक पारी में लेकर सभी को प्रभावित किया था।

इस वजह के चलते हुए नजरअंदाज किया गया

हार्दिक पांड्या को नजरअंदाज किए जाने के पीछे सबसे बड़ी वजह उन्हें एक बल्लेबाज के तौर पर शामिल किया जाना है। क्योंकि चयनकर्ताओं के अनुसार वह हार्दिक को ऑलराउंडर खिलाड़ी के तौर पर देखते हैं, लेकिन एक विशेषज्ञ बल्लेबाज के तौर पर नहीं जिसके चलते वह टीम से नजरअंदाज किए गए हैं। वहीं हार्दिक ने भी अपना आखिरी टेस्ट मैच साल 2018 में खेला था, जिसके बाद से वह लगातार टेस्ट टीम से बाहर ही चल रहे हैं।

इंजरी के चलते हुआ नुकसान

साल 2018 में हार्दिक पांड्या काफी शानदार फार्म में चल रहे थे लेकिन कमर में अचानक लगी चोट के चलते उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ा जिसमें वह कई बड़ी सीरीज से जहां बाहर रहे तो वहीं टेस्ट क्रिकेट में वापसी भी नहीं हो सकी। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण उनका गेंदबाजी में फिर से उस तरह प्रभावी ना दिखना है। पिछली कुछ अंतरराष्ट्रीय सीरीज में भी हार्दिक टीम इंडिया के लिए एक विशेषज्ञ बल्लेबाज के तौर पर ही खेलते हुए दिखाई दिए हैं।

Leave a Response