close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

क्या चोट के चलते जोफ्रा आर्चर के टेस्ट करियर पर लगा ग्रहण

इंग्लैंड टीम के लिए साल 2021 में ऐसा लग रहा है कि सबकुछ सही नहीं चल रहा है। टीम के कई अनुभवी खिलाड़ी जहां अनफिट होने के चलते महत्वपूर्ण सीरीज के पहले बाहर हो रहे हैं तो वहीं, कुछ ने मानसिक तनाव के चलते खुद को क्रिकेट से दूर कर लिया है। इसी में एक नाम बेहतरीन तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर का भी शामिल है जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना पहला कदम रखने से पहले ही काफी ज्यादा सुर्खियां बटोर ली थी।

जोफ्रा के प्रदर्शन को देखा जाए तो उन्होंने तीनों ही फॉर्मेट में शानदार खेल दिखाया है। हालांकि, कोहनी में पुरानी परेशानी के चलते वह साल 2021 में क्रिकेट के मैदान से दूर रहने वाले हैं। दरअसल, 26 वर्षीय जोफ्रा आर्चर को साल 2020 में इसी परेशानी के चलते दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ कुछ मैचों के बाद भारत के दौरे पर भी कई मैचों से बाहर बैठना पड़ा था जिसके बाद डॉक्टरों की सलाह पर उनकी कोहनी की सर्जरी कराने का फैसला लिया गया था।

सर्जरी के बाद ऐसी उम्मीद की जा रही थी कि वह भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज के आखिरी के 3 मैचों में चयन के लिए उपलब्ध होंगे लेकिन इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने जब उनकी इस चोट का स्कैन कराया तो पता चला कि पुरानी परेशानी एक बार फिर से उभरकर सामने आ गई है। इसके चलते उनके इस साल टी-20 वर्ल्ड कप और एशेज सीरीज से भी बाहर होने से इंग्लैंड टीम के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है।

क्या टेस्ट क्रिकेट में आर्चर का खेलना हुआ मुश्किल

कोहनी की चोट के चलते जोफ्रा आर्चर के इस पूरे साल मैदान से बाहर होने के बाद कई विशेषज्ञों का मानना है कि अब उनका टेस्ट फॉर्मेट में वापसी कर पाना काफी मुश्किल दिखाई दे रहा है। दरअसल, तीनों ही फॉर्मेट में फिटनेस को बनाए रखना आसान काम नहीं है और ऐसा माना जा रहा है कि जोफ्रा के लिए सिर्फ लिमिटेड फॉर्मेट खेलने से वह लंबे समय तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में योगदान दे सकते हैं।

साल 2019 के वनडे वर्ल्ड कप में इंग्लैंड की जीत में जोफ्रा आर्चर का अहम योगदान था जिसके बाद ऐसा माना जा रहा है कि टेस्ट में शायद ही उनका अब दोबारा खेला पाना संभव हो सकता है। अभी तक जोफ्रा ने 13 टेस्ट मैचों में खेलते हुए 31 की औसत से 42 विकेट हासिल किए हैं जिसमें 3 बार वह एक पारी में 5 विकेट भी ले चुके हैं।

Leave a Response