close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

भारत का एकमात्र खिलाड़ी जो वनडे व टेस्ट गेंदबाजी रैंकिंग में बना नंबर 1

क्रिकेट में किसी भी खिलाड़ी या टीम के प्रदर्शन को समझने के लिए आईसीसी की रैंकिंग एक बेहतर विकल्प बन सकती है। टीमों की रैंकिंग के अलावा आईसीसी ने खिलाड़ियों के प्रदर्शन को मापने के लिए बल्लेबाजी, गेंदबाजी और ऑलराउंडर रैंकिंग में बांटा है। क्रिकेटे के तीनों फॉर्मेट टेस्ट टेस्ट, वनडे और टी-20 रैंकिंग को समय-समय पर आईसीसी अपडेट करता रहता है। रैंकिंग में ऐसा बेहद कम ही देखने को मिला है, कि कोई एक खिलाड़ी अलग-अलग फॉर्मेट में नंबर एक के पायदान पर काबिज हो।

लेकिन क्या आप जानते हैं, कि भारत की तरफ से आईसीसी टेस्ट और वनडे रैंकिंग में एकमात्र गेंदबाज का नाम जो दोनों ही रैंकिंग में नंबर 1 के स्थान पर पहुंचा है। यह कारनामा पिछले कुछ सालों से शानदार फॉर्म में चल रहे ऑलराउंडर खिलाड़ी सर रविंद्र जडेजा ने किया है। जडेजा साल 2013 में वनडे रैंकिंग में जहां नंबर 1 गेंदबाज बने जिसमें वह कपिल देव, मनिंदर सिंह और अनिल कुंबले के बाद यह मुकाम हासिल करने वाले चौथे भारतीय गेंदबाज थे।

उसी समय जडेजा आईसीसी वनडे ऑलराउंडर की रैंकिंग में दूसरे नंबर के खिलाड़ी बने हुए थे। जिसके बाद साल 2017 में जडेजा ने टेस्ट क्रिकेट में अपने शानदार प्रदर्शन के दम पर नंबर 1 गेंदबाज की रैंकिंग को रवि अश्विन के साथ संयुक्त रूप से हासिल किया था, जिसके कुछ समय बाद वह अकेल इस स्थान पर बने रहे थे। यह कारनामा करने के साथ जडेजा भारत के एकमात्र ऐसे गेंदबाज बन गए जिन्होंने टेस्ट और वनडे दोनों में नंबर की रैंकिंग को हासिल किया था।

रविंद्र जडेजा
तस्वीरः आईसीसी

इसके अलावा जडेजा लगातार आईसीसी टेस्ट ऑलराउंडर की रैंकिंग में अपने दबदबे को कायम रखने में कामयाब रहे हैं। साल 2016 से वह इस रैंकिंग के टॉप-3 खिलाड़ियों में लगातार बने हुए हैं। जिसके पीछे सबसे बड़ा कारण उनके खेल में लगातार निरंतरता का बने रहना और टीम के लिए मैच विनिंग प्रदर्शन करना है।

अभी तक जडेजा ने तीनों ही फॉर्मेट में मिलाकर 269 मैचों में जहां 4,582 रन बनाए हैं, तो वहीं 447 विकेट भी हासिल किए हैं। कपिल देव के बाद वह भारत के एकमात्र ऐसे खिलाड़ी हैं, जिनके नाम पर 4,000 से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय रन और 400 से अधिक विकेट लेने का रिकॉर्ड दर्ज है।

Leave a Response