close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

कार्तिक त्यागीः भारत का नया स्पीड स्टार

मंगलवार को अंडर-19 विश्वकप में भारत ने ऑस्ट्रेलिया को आसानी से 74 रन से हरा दिया। इस जीत में अहम योगदान हापुड़, यूपी के तेज गेंदबाज कार्तिक त्यागी ने चार विकेट लेकर दिया। इसके साथ ही भारतीय टीम ने सेमीफाइनल में जगह बनाने वाली पहली टीम भी बन गई, जबकि ऑस्ट्रेलियाई टीम लगातार चौथी बार विश्वकप के सेमीफाइनल में जगह बनाने से चूक गई।

त्यागी ने कंगारुओं को टूर्नामेंट से किया बाहर

कार्तिक त्यागी

कार्तिक त्यागी ने कंगारुओं की कमर शुरुआत में ही तोड़ दी और शीर्ष क्रम के दो बल्लेबाजों को लगातार दो गेंदों में पवेलियन भेजकर मैच को टीम इंडिया के पक्ष में मोड़ दिया। लक्ष्य का पीछा करने उतरी ऑस्ट्रेलिया का पहला विकेट रन आउट के रूप में गिरा था। त्यागी ने मैच में चार बल्लेबाजों को आउट किया और कंगारु टीम उनके दिए झटके से पूरे मैच में उबर नहीं पाई।

नहीं बनना चाहते थे गेंदबाज

दिलचस्प बात ये है कि कार्तिक त्यागी गेंदबाज कभी नहीं बनना चाहते थे, वह दिल से सलामी बल्लेबाज बनना चाहते थे। त्यागी की उम्र तकरीबन 12 वर्ष की रही होगी और उन्होंने मेरठ के मशहूर कोच विपिन वत्स के क्रिकेट कैंप में दाखिला लिया था। उन्हें नेट्स में बल्लेबाजी करने के लिए लंबा इंतजार करना पड़ता था और एक दिन वत्स ने कार्तिक से गेंदबाजी करने को कहा। जहां उनके गेंदबाजी कोच ही नहीं वह खुद भी प्रभावित हुए और वह गेंदबाज बन गए।

पका हुआ गेंदबाज हैः प्रवीण कुमार

भारत के पूर्व तेज गेंदबाज प्रवीण कुमार ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए बताया कि मेरठ के कोच विपिन वत्स ने तीन साल पहले कार्तिक त्यागी की गेंदबाजी देखने को कहा था। त्यागी तब विक्टोरिया पार्क में गेंदबाजी करते थे, जहां उनके लंबे रन-अप और हाई-आर्म एक्शन को देखकर प्रवीण कुमार खासे प्रभावित हुए। कुमार ने उन्हें तभी पका हुआ गेंदबाज बताया था।

कोच विपिन वत्स की कार्तिक पर राय

पहली बात उसका कद लंबा है और दूसरी बात उसका एक्शन हाई-आर्म है। इस तरह आधा काम ऐसे ही पूरा हो गया, रही बात बतौर कोच तो मेरी ये जिम्मेदारी है कि मेरे पास आने वाले बच्चों का करियर बनाने में मैं मदद करूं। मैंने उस वक्त सोचा कि कार्तिक पर गेंदबाजी ज्यादा फबती है।

सुरेश रैना ने दिया मौका

प्रवीण कुमार ने त्यागी को तब देखा था जब उत्तर प्रदेश के कप्तान सुरेश रैना थे। प्रवीण ने रैना से त्यागी को लेकर कहा था कि उसके पास स्विंग, पेस और किसी भी तरह के विकेट पर गेंदबाजी करने की क्षमता है। “ये लड़का कहीं भीड़ में न गुम हो जाए।” त्यागी को बुची बाबू टूर्नामेंट में उत्तर प्रदेश के लिए खेलने का मौका मिला और रैना ने उन्हें रणजी ट्रॉफी में डेब्यू कैप दिया। यही नहीं राहुल द्रविड़ भी कार्तिक त्यागी से काफी प्रभावित थे।

कार्तिक त्यागी

चोट की वजह से साल भर क्रिकेट से रहे दूर

हालांकि कार्तिक त्यागी को दिक्कतों का सामना भी करना पड़ा और वह चोट की वजह से तकरीबन एक साल क्रिकेट से दूर रहे। इलाज के लिए त्यागी के पिता को लोगों से उधारी भी लेनी पड़ी, जिससे घर की आर्थिक स्थिति भी बिगड़ गई। उनके पिता किसान हैं और उत्तर प्रदेश जैसे राज्यों में किसानों के हाल क्या हैं, सबको पता है। इसके बावजूद कार्तिक ने संघर्ष किया और मैदान पर लौटे, आईपीएल नीलामी में राजस्थान रॉयल्स ने इस गेंदबाज को 1.3 करोड़ रुपए में खरीदा है।

नोटः ये लेख 100एमबी पर पहली बार 31 दिसम्बर 2020 को पब्लिश किया गया था।

ऋषभ पंतः टीम प्रबंधन के कुप्रबंधन का हो रहे शिकार

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।