close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

शुभमन गिल : बल्लेबाज़ जिस पर टिकी हुई है भविष्य की जिम्मेदारी

भारतीय युवा बल्लेबाज शुभमन गिल का जन्म 8 सितंबर 1999 को पंजाब के फजिलका, पंजाब में हुआ था। दाएं हाथ से बल्लेबाजी करने वाले गिल शीर्ष क्रम के बल्लेबाज हैं। मौजूदा समय में शुभमन गिल भारतीय टेस्ट टीम का हिस्सा हैं, जबकि वह आईपीएल में केकेआर के अहम सदस्य हैं। साल 2018 में वह भारतीय अंडर-19 टीम के उपकप्तान बनाए गए और विश्वकप में 124 के औसत से 372 रन बनाए। भारत चौथी बार चैंपियन बना और गिल प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुने गए। पाकिस्तान के खिलाफ गिल ने 102 रन की मैच जिताऊ पारी खेली थी। जिसकी तारीफ भारत के दिग्गज राहुल द्रविड़, सचिन तेंदुलकर, वीवीएस लक्ष्मण और सौरव गांगुली ने की थी।

गिल का सफर कुछ यूं रहा है

शुभमन गिल के पिता लखविंदर सिंह बड़े स्तर पर खेती-किसानी का काम करते हैं। उनका सपना क्रिकेटर बनने का था, लेकिन वह अधूरा रहा। जिसके बाद उन्होंने अपने बेटे शुभमन गिल को क्रिकेटर बनाने का सोचा और वह आज सफल होता नजर आ रहा है। गिल को बल्लेबाजी करने का इतना शौक था कि उनके पिता को गेंद फेंकने के लिए एक आदमी को अपने फार्म पर रखना पड़ा। सरदार लखविंदर सिंह को अपने बेटे की प्रतिभा का आकलन समय पर हो गया और वह अपना परिवार मोहाली लेकर आ गये। जहां पीसीए स्टेडियम के पास एक घर किराए पर लेकर रहने लगे।

शुभमन गिल भारत क्रिकेट

घरेलू स्तर पर शुभमन

साल 2014 में शुभमन गिल ने पंजाब की तरफ से अंडर-16 स्टेट टूर्नामेंट विजय मर्चेंट ट्रॉफी में डेब्यू करते हुए नाबाद दोहरा शतक बनाया। इसी वर्ष गिल ने पंजाब इंटर-स्टेट अंडर-16 प्रतियोगिता में 351 रन की पारी खेली और निर्मल सिंह के साथ 587 रन की रिकॉर्ड पारी खेली। पंजाब की तरफ से लिस्ट ए में शुभमन गिल ने विजय हजारे ट्रॉफी में 25 फरवरी 2017 को डेब्यू किया। उन्होंने साल 2017-18 के रणजी सीजन में बंगाल के खिलाफ अपना पहला प्रथम श्रेणी मुकाबला खेला था। जिसके अगले ही मैच में सर्विसेज के खिलाफ गिल ने अपने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में पहला शतक बनाया।

आईपीएल में गिल

साल 2018 के आईपीएल नीलामी में शुभमन गिल को केकेआर ने 1.8 करोड़ रुपए में खरीदा। गिल ने केकेआर के लिए खेलते हुए अपने करियर का पहला टी-20 मैच 14 अप्रैल 2018 को खेला। गिल फिलहाल केकेआर के अहम सदस्यों में शुमार करते हैं।

शुभमन गिल

राष्ट्रीय चयनकर्ताओं के रेडार में ऐसे आए

शुभमन गिल ने अपने प्रदर्शन से राष्ट्रीय चयनकर्ताओं को प्रभावित किया और उन्हें साल 2018-19 की देवधर ट्रॉफी में इंडिया सी टीम में चुना गया। जहां राउंड-रॉबिन मुकाबले में इंडिया ए के खिलाफ गिल ने नाबाद शतकीय पारी खेली और अपनी टीम को फाइनल में पहुंचाया। गिल ने इसी वर्ष प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अपने करियर का पहला दोहरा शतक 268 रन की पारी तमिलनाडु के खिलाफ खेली। वह यहीं नहीं रूके हैदराबाद के खिलाफ उन्होंने एक और बेहतरीन 148 रन की पारी खेली। गिल ने 8 मैचों की 14 पारियों में ही 990 रन बना लिए और एक हफ्ते बाद वह अपने 15वीं पारी में हजार रन पूरा करने वाले बल्लेबाज बन गए। साल 2019 में वह आईपीएल में इमर्चिंग प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुने गए। इसी वर्ष वह इंडिया सी के दुलीप ट्रॉफी में इंडिया सी के कप्तान भी बनाए गए।

अंतरराष्ट्रीय करियर

साल 2019 में शुभमन गिल को न्यूजीलैंड दौरे पर जाने वाली सीमित ओवर की भारतीय टीम में जगह दी गई। जहां उन्होंने 31 जनवरी को 19 वर्ष 334 दिन की उम्र में अपना वनडे डेब्यू किया। हालांकि गिल मिले मौके का फायदा उठाने में नाकामयाब रहे और उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया। उनके बल्ले से दो मैचों में महज 16 रन ही आए।

डेविड वॉर्नर : दुनिया के सबसे विस्फोटक बल्लेबाज के बारे में जानें

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।