close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

भारतीय महिला क्रिकेट टीम की सलामी बल्लेबाज स्मृति मंधाना के बारे में जानें

भारतीय पुरुष क्रिकेट टीम की तरह ही महिला क्रिकेट टीम ने भी पिछले कुछ सालों में अपने खेल से सभी को प्रभावित किया है। इसके पीछे सबसे बड़ी वजह टीम में युवा और अनुभवी खिलाड़ियों का तालमेल है। जिसमें अनुभव के तौर पर टीम के पास मिताली राज और झूलन गोस्वामी मौजूद हैं, तो वहीं युवा खिलाड़ी के रुप में हरमनप्रीत कौर के अलावा स्मृति मंधाना का नाम भी शामिल किया जाता।

स्मृति मंधाना को महिला क्रिकेट के सहवाग के तौर पर पहचाना जाता क्योंकि इसके पीछे सबसे बड़ी वजह उनका आक्रामक खेल का रवैया है। बाएं हाथ की ओपनिंग बल्लेबाज मंधाना ने भारतीय महिला टीम को कई बार अपने इसी खेल के जरिए एकतरफा जीत दिलाने में अहम भूमिका अदा की है। वहीं साल 2020-21 के घोषित बीसीसीआई महिला क्रिकेट अनुबंध में मंधाना को ग्रेड ए में शामिल किया गया है, जिसमें उनके साथ हरमनप्रीत कौर और पूनम यादव हैं।

मुंबई में हुआ जन्म

18 जुलाई 1996 को स्मृति मंधाना का जन्म महाराष्ट्र के मुंबई में हुआ था। बाएं हाथ की ओपनिंग बल्लेबाज मंधाना एक पार्ट टाइम मध्यम गति की गेंदबाज भी हैं। साल 2018 में बीसीसीआई ने मंधाना को सर्वश्रेष्ठ भारतीय महिला अंतरराष्ट्रीय सालाना क्रिकेट खिलाड़ी के पुरस्कार से नावाजा था। इसके अलावा मंधाना को प्रतिष्ठित अर्जुन पुरस्कार भी मिल चुका है।

पिता और भाई से मिली क्रिकेट खेलने की प्रेरणा

जब स्मृति मंधाना की उम्र 2 साल थी तो उस समय उनका परिवार महाराष्ट्र के सांगली स्थित माधवनगर जाकर बस गया। स्मृति को क्रिकेट खेलने की प्रेरणा अपने पिता और भाई सरवन से मिली जो सांगली में डिस्ट्रिक स्तर पर खेल रहे थे और स्मृति उन्हें खेलते हुए देखने जाती थी। इसके बाद 9 साल की उम्र में स्मृति को महाराष्ट्र अंडर-15 टीम में जगह मिली और इसके बाद 11 साल की उम्र में महाराष्ट्र अंडर-19 टीम का हिस्सा बन गईं। हालांकि स्मृति को इस दौरान अपने परिवार का भी पूरा साथ मिला जिसमें उनके पिता ने उन्हें हर स्तर पर साथ दिया।

इसके बाद मंधाना ने अक्टूबर 2013 में उस समय घरेलू क्रिकेट में बड़ा धमाका किया जब उन्होंने गुजरात और महाराष्ट्र के बीच हुए वनडे मैच में दोहरा शतक लगा दिया। इस मैच में मंधाना ने 150 गेंदों में 224 रनों की नाबाद पारी खेली थी।

साल 2013 में मिला अंतरराष्ट्रीय डेब्यू का मौका

घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन का इनाम स्मृति मंधाना को जल्द ही मिला और साल 2013 में बांग्लादेश के खिलाफ उन्हें डेब्यू का मौका मिला। इसके अगले ही साल अगस्त में मंधाना को अपने करियर का पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच इंग्लैंड के खिलाफ खेलने का मौका मिला। इस मैच में मंधाना ने पहली पारी में 22 और दूसरी पारी में 51 रनों की पारी खेली थी।

वहीं मंधाना के नाम पर अंतरराष्ट्रीय महिला टी-20 क्रिकेट में सबसे तेज भारत की तरफ से अर्धशतक बनाने का रिकॉर्ड दर्ज है, जिसे उन्होंने साल 2018 में अपने रिकॉर्ड को तोड़ते हुए नया बनाया था। स्मृति ने इंग्लैंड के खिलाफ मैच में खेलते हुए सिर्फ 25 गेंदों में यह कारनाम कर दिया था।

अभी तक ऐसा रहा है करियर

स्मृति मंधाना के अभी तक के अंतरराष्ट्रीय करियर को लेकर बात की जाए तो उन्होंने 56 वनडे मैचों में 42.58 के औसत से 2,172 रन बनाए हैं, जिसमें 4 शतक और 18 अर्धशतक शामिल हैं। वहीं 78 टी-20 मैचों में 25.45 के औसत से 1,782 रन बना चुकी हैं। इसमें 12 अर्धशतकीय पारियां शामिल हैं। जबकि 2 टेस्ट मैचों में स्मृति ने 27 के औसत से 81 रन बनाए हैं।

Leave a Response