close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

बीजे वाटलिंग : न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम के हीरो विकेटकीपर बल्लेबाज के बारे में जानें

न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम से खेलने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज बीजे वाटलिंग ने टीम के इंग्लैंड दौरे के बाद तीनों ही फॉर्मेट से संन्यास का ऐलान करके सभी को चौंका दिया। बीजे वाटलिंग कीवी टीम के लिए टेस्ट क्रिकेट में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी के तौर पर माने जाते हैं और उनकी जगह भरना आसान काम टीम के लिए नहीं होने वाला है।

वाटलिंग ने टीम में पूर्व खिलाड़ी ब्रैंडन मैक्कुलम की कमी को बिल्कुल भी महसूस नहीं होने दिया और निचलेक्रम में एक बल्लेबाज के तौर पर कई बार टीम के लिए मैच विनिंग पारियां खेली हैं। वाटलिंग के अभी तक के टेस्ट क्रिकेट के प्रदर्शन पर नजर डाली जाए तो उन्होंने 73 मैचों की 114 पारियों में 38.11 के औसत से 8,854 रन बनाए हैं। जिसमें 8 शतकीय पारी और 19 अर्धशतकीय पारियां शामिल हैं। बीजे वाटलिंग ने इसके अलावा 28 वनडे और 5 टी-20 मैच भी खेले हैं।

3 बार एक शतक लगाने के साथ एक पारी में पकड़े 5 कैच

बीजे वाटलिंग एक बल्लेबाज और विकेटकीपर के तौर पर अपनी भूमिका में पूरी तरह से खुद को लगातार साबित कर रहे थे। उनके रिकॉर्ड्स पर नजर डाली जाए तो टेस्ट क्रिकेट में वह एकमात्र ऐसे विकेटकीपर खिलाड़ी हैं जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट की एक पारी में शतक लगाने के साथ 5 शिकार भी किए हैं। वाटलिंग ने साल 2014 में भारत के खिलाफ वेलिंगटन टेस्ट में पहली बार यह कारनामा करने के बाद साल 2015 और 2019 में श्रीलंका के खिलाफ ऐसा करने में कामयाब हो सके थे।

विकेटकीपर के तौर पर न्यूजीलैंड टीम के लिए एक पारी में बनाए सबसे ज्यादा रन

न्यूजीलैंड टीम से एक विकेटकीपर के तौर पर खेलना किसी भी खिलाड़ी के लिए आसान काम नहीं होता है क्योंकि पहले उसे अपने घरेलू हालात का सामना करते हुए खुद के विकेट के पीछे साबित करना होता है तो वहीं एक बल्लेबाज की भूमिका भी बखूबी निभानी होती है। टेस्ट क्रिकेट में यदि अभी तक सभी टीमों को सबसे ज्यादा मुश्किल हालात का सामना करना पड़ा है तो वह न्यूजीलैंड की धरती पर। हालांकि बीजे वाटलिंग ने खुद को इन दोनों ही मोर्चे पर लगातार साबित किया है। जिसमें वह टेस्ट क्रिकेट की एक पारी में न्यूजीलैंड के लिए सर्वाधिक रन बनाने वाले विकेटकीपर बल्लेबाज हैं। वाटलिंग ने साल 2019 में इंग्लैंड टीम के खिलाफ माउंट मॉन्गनुई में 205 रनों की पारी खेली थी, जिसके बाद उन्होंने ब्रैंडन मैक्कुलम के साल 2010 में बांग्लादेश के खिलाफ बनाए गए रिकॉर्ड को तोड़ दिया था।

साल 2013 से टीम के पूरी तरह से पक्की की जगह

ब्रैंडन मैक्कुलम के साल 2010 में सिर्फ वनडे में विकेटकीपर के तौर पर खेलने के फैसले के बाद वाटलिंग को टीम में शामिल किया गया। लेकिन वाटलिंग को साल 2009 से 2012 तक 8 टेस्ट मैच खेलने का मौका मिला जिसमें से 6 में वह एक विशेषज्ञ बल्लेबाज के तौर पर खेले। वहीं इस दौरान टीम में ग्रीथ हॉपकिंस, रीस यंग और क्रुगर वैन विक को भी विकेटकीपर के तौर पर आजमाया गया। लेकिन साल 2013 से वह कीवी टेस्ट टीम के लिए पहली पसंद के विकेटकीपर के तौर पर लगातार खेल रहे हैं।

Leave a Response