close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

कीरोन पोलार्ड : टी-20 का सबसे अनुभवी खिलाड़ी, जिसमें दिखता है वेस्टइंडीज का भविष्य

कीरोन पोलार्ड दुनिया के सबसे विध्वसंक बल्लेबाज हैं। अपना दिन होने पर पोलार्ड किसी भी गेंदबाजी लाइन-अप को रौंदकर अपनी टीम की झोली में जीत डालने का माद्दा रखते हैं। ऐसा उन्होंने कई बार किया भी है। 12 मई सन् 1987 में पोलार्ड का जन्म त्रिनिदाद के टकारिगुआ में हुआ था। वह दाएं हाथ से बल्लेबाजी करते हैं और मध्यम गति के तेज गेंदबाज हैं। लंबी कद काठी वाले पोलार्ड मैदान पर हर विभाग में चैंपियन हैं। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट वह वेस्टइंडीज की ओर से खेलते हैं और आईपीएल में लंबे समय से मुंबई इंडियंस का हिस्सा हैं।

गरीबी में बीता बचपन

वेस्टइंडीज के मौजूदा सीमित ओवर टीम के कप्तान कीरोन पोलार्ड का बचपन बेहद गरीबी में गुजरा है। उनकी दो बहनें हैं और उनका पालन पोषण उनकी मां ने किया है। पोलार्ड ने खुद कहा था कि उनका बचपन बहुत ज्यादा ही गरीबी में बीता है, उनकी मां के पास पैसे बिल्कुल नहीं होते थे।

कीरोन पोलार्ड

शुरूआती करियर

साल 2005 में पोलार्ड को त्रिनिदाद और टोबागो टीम में जगह मिली और उसके बाद उनका चयन पाकिस्तान के दौरे पर जाने वाली वेस्टइंडीज की अंडर-19 टीम में हो गया। जहां पहले वनडे में उन्होंने 49 गेंदों में 53 रन की पारी खेली, जबकि दूसरी वनडे में भी उन्होंने पचासा जड़ा। उसके बाद उनका चयन अंडर-19 विश्वकप की टीम में हो गया। लेकिन वह बुरी तरह से असफल हुए और उनके खाते में 19 रन व दो विकेट ही दर्ज हुए। साल 2006 में उन्हें त्रिनिदाद व टोबागो की सीनियर टीम में जगह मिली और उन्होंने अपना पहला प्रथम श्रेणी मैच बारबडोस के खिलाफ खेला।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू

घरेलू मुकाबले में पोलार्ड ने 126 रन की पारी खेली, जिसमें 82 रन उन्होंने सिर्फ चौके-छक्के से ही बनाए। जिसकी बदौलत उन्हें साल 2007 के विश्वकप में वेस्टइंडीज की टीम में जगह मिल गई। जहां 10 अप्रैल को उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ डेब्यू किया। अपने पहले मैच में उन्होंने 17 गेंदों में 10 रन बनाए और गेंदबाजी में उन्हें एक भी विकेट नहीं मिला।

करियर का हाई प्वाइंट

कीरोन पोलार्ड का करियर जिस मैच से बदला वह साल 2009 में चैंपियंस लीग में खेला गया था। मुकाबला त्रिनिदाद व टोबागो बनाम न्यू साउथ वेल्स के बीच हुआ था। जिसमें उन्होंने 18 गेंदों में 54 रन की पारी खेलकर अपनी टीम जीत दिलाई थी। इस पारी में पोलार्ड ने 5 छक्के लगाए थे।

पोलार्ड की कुछ खास पारियां

साल 2012 में वेस्टइंडीज की वनडे टीम के साथ भारत दौरे पर कीरोन पोलार्ड भी आए थे। जहां उन्होंने चेन्नई में हुए मुकाबले में 110 गेंदों में 119 रन की पारी खेलकर अकेले दम पर अपनी टीम जीत दिलाई थी। उनकी इस पारी की बदौलत 78 रन पर 5 विकेट पर संघर्ष कर रही विंडीज की टीम ने 233 रन बनाए। इसी वर्ष उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सेंट लूसिया में 55 गेंदों में 102 रन की पारी खेली थी। पोलार्ड ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना दूसरा शतक सिडनी में 72 गेंदों में 109 रन बनाकर पूरा किया था।

लो प्वाइंट

कीरोन पोलार्ड अपने देश के स्टार ऑलराउंडर हैं और उन्होंने क्लब स्तर के क्रिकेट में ये बात साबित भी की है। लेकिन उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कैरेबियाई टीम का प्रतिनिधित्व बहुत ही सीमित किया है। बोर्ड के साथ उनका अक्सर विवाद चलता रहा है, जिसकी वजह से उन्हें साल 2015 के विश्वकप में टीम में शामिल नहीं किया गया।

पोलार्ड

आईपीएल में पोलार्ड

साल 2010 के नीलामी में कीरोन पोलार्ड को मुंबई इंडियंस ने खरीदा और वह तब से आजतक इसी टीम का हिस्सा हैं। पहले सीजन में उनका प्रदर्शन शानदार रहा, जबकि उसके बाद के दो सीजन में उनका प्रदर्शन उतना अच्छा नहीं रहा। लेकिन साल 2013 में उन्होंने कुल 420 रन बनाए और अपनी टीम को पहली बार चैंपियन बनाने में अहम साबित हुए। साल 2015 में पोलार्ड ने 419 रन बनाए और मुंबई एक बार फिर खिताब पर कब्जा करने में सफल रही।

पोलार्ड का ओवरऑल करियर

वेस्टइंडीज के मौजूदा कप्तान कीरोन पोलार्ड ने 113 वनडे मैचों में 2496 रन बनाए हैं और कुल 53 विकेट झटके हैं। जबकि टी-20 अंतरराष्ट्रीय में उन्होंने 73 मैचों में 1123 रन व 35 विकेट अपने खाते में दर्ज करवाए हैं। वहीं आईपीएल में उन्होंने 148 मैचों में 2755 रन व 56 विकेट झटके हैं।

पर्सनल लाइफ

तकरीबन 7 साल तक डेट करने के बाद कीरोन पोलार्ड ने अपनी गर्लफ्रेंड जेना अली से साल 2012 में शादी रचाई। पोलार्ड और जेना की एक बेटी व बेटा है।

बेन स्टोक्स : दुनिया के सबसे बेहतरीन ऑलराउंडर के बारे में जानें

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।