close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

गेंदों के लिहाज से टेस्ट क्रिकेट की 3 सबसे लंबी पारी 

क्रिकेट के सबसे पुराने फॉर्मेट टेस्ट क्रिकेट में एक बल्लेबाज के पास लंबी पारी खेलने का सबसे ज्यादा मौका होता है। इसी कारण कई बार गेंदबाजों को काफी मेहनत करने के बाद भी एक विकेट हासिल करने के लिए जूझना पड़ जाता है। वहीं बल्लेबाज अकेले ही 100 से अधिक ओवर बल्लेबाजी करते हुए नया रिकॉर्ड ही बना देता है। 

मौजूदा समय में हमें टेस्ट क्रिकेट में ऐसी पारियां कम ही देखने को मिलती हैं। नए फॉर्मेट और नियमों के चलते क्रिकेट समेत खिलाड़ियों की मानसिकता में बदलाव हुआ है। लेकिन अभी भी कई ऐसे खिलाड़ी मौजूद हैं, जो लंबी पारियां खेलने के लिए पहचाने जाते हैं। एक बल्लेबाज की असल परीक्षा टेस्ट क्रिकेट में ही होती है, जिसमें उसे सत्र दर सत्र खुद को साबित करना होता है। इस लेख में हम आपको प्रथम श्रेणी क्रिकेट में अभी तक गेंदों के लिहाज से 3 सबसे लंबी पारियों के बारे में बताने जा रहे हैं। 

3 – बॉब सिम्पसन (बनाम इंग्लैंड, 743 गेंदे) 

मैनचेस्टर के मैदान पर साल 1964 में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए सीरीज के चौथे टेस्ट मैच में ऑस्ट्रेलियाई कप्तान बॉब सिम्पसन एक अलग इरादे के साथ मैदान में बल्लेबाजी के लिए उतरे थे। सिम्पसन ने बिल लॉरी के साथ पारी की शुरुआत करते हुए पहले विकेट के 201 रनों की साझेदारी की थी। वहीं लॉरी के आउट होने के बाद सिम्पसन ने अपनी पारी को लगातार आगे बढ़ाते हुए तिहरा शतक जड़ दिया। इसमें उन्होंने 311 रन बनाने के लिए कुल 743 गेंदों का सामना किया था। हालांकि यह मैच बाद में ड्रॉ पर खत्म हुआ था, लेकिन बिल लॉरी की यह पारी अभी भी गेंदों के लिहाज से तीसरे पायदान पर मौजूद है। 

2 – ग्लेन टर्नर (बनाम वेस्टइंडीज, 759 गेंदे) 

न्यूजीलैंड की टीम साल 1972 में वेस्टइंडीज के दौरे पर थी, जिसमें सीरीज का चौथा टेस्ट मैच जॉर्जटाउन के मैदान में खेला गया था। इस टेस्ट मैच की पहली पारी में विंडीज टीम ने बल्लेबाजी करते हुए 7 विकेट के नुकसान पर 365 रन बनाकर घोषित कर दी थी। जवाब में कीवी टीम तरफ से पारी की शुरुआत करने के लिए आए ग्लेन टर्नर और टैरी जार्विस ने पहले विकेट के लिए 387 रन जोड़ दिए। हालांकि जार्विस 182 के निजी स्कोर पर पवेलियन लौट गए थे, लेकिन टर्नर ने 265 रनों की पारी खेली, जिसके लिए उन्होंने 759 गेंदों का सामना किया था। 

1 – सर लियोनार्ड हटन (बनाम ऑस्ट्रेलिया, 847 गेंदे) 

साल 1938 में ऑस्ट्रेलियाई टीम के इंग्लैंड दौरे पर खेली गई टेस्ट सीरीज के 5वें मैच में लियोनार्ड हटन की पारी ने सभी को आश्चर्य में डाल दिया था। टॉस जीतने के बाद पहले बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड टीम की शुरुआत तो अच्छी नहीं हुई क्योंकि पहला विकेट 29 के स्कोर पर ही गिर गया। लेकिन इसके बाद लियोनार्ड हटन ने लेलैंड के साथ मिलकर 382 रनों की साझेदारी कर दी। हटन ने पहली पारी में 364 रन बनाने के लिए 847 गेंदों का सामना किया था। जिसके चलते इंग्लैंड की टीम ने पहली पारी 903 के स्कोर पर घोषित की थी। मौजूदा समय में भी हटन की यह पारी किसी भी इंग्लैंड के खिलाड़ी द्वारा टेस्ट क्रिकेट की सबसे लंबी पारी है। 

जन्मदिन स्पेशल: बेन स्टोक्स की अब तक की 4 सबसे करिश्माई पारियां

Leave a Response