close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

आज के दिनः ऑस्ट्रेलिया ने पूरा किया था वनडे विश्वकप जीतने का हैट्रिक

28 अप्रैल साल 2007 मतलब के आज के ही दिन ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम ने पुरुषों के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में इतिहास रच दिया था। कंगारु टीम ने लगातार तीन विश्वकप जीतने का रिकॉर्ड बनाया था। सन् 1999 में पाकिस्तान के खिलाफ चैंपियन बनकर उभरी, ऑस्ट्रेलियाई टीम ने साल 2003 में भारत को और साल 2007 के विश्वकप फाइनल में श्रीलंका को मात दिया था। इस तरह कंगारु टीम दुनिया की पहली व एकमात्र ऐसी टीम बन गई, जिसने लगातार तीन विश्वकप खिताब अपने नाम किये। हालांकि कुल मिलाकर ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 5 विश्वकप जीते हैं।

साल 2007 के विश्वकप में ऑस्ट्रेलियाई टीम विजय रथ पर सवार थी और दक्षिण अफ्रीका को सेमीफाइनल में 7 विकेट से रौंदते हुए फाइनल का टिकट हासिल किया। रिकी पोंटिंग की कप्तानी वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम प्रोटियाज टीम को महज 18.3 ओवर में ही मात दे दिया था, उसके बाद फाइनल में टीम का सामना श्रीलंका से हुआ।

गिलक्रिस्ट ने खेली यादगार पारी

फाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया, दोनों टीमों के लिए मुकाबला 38 ओवर का निर्धारित हो गया था। विकेटकीपर बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी करते हुए 104 गेंदों में 149 रन की पारी खेली। जिसकी मदद से ऑस्ट्रेलियाई टीम ने निर्धारित 38 ओवर में 4 विकेट खोकर 281 रन बनाए।

बड़े स्कोर के सामने श्रीलंकाई बल्लेबाजों का सरेंडर

जवाब में श्रीलंकाई टीम ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों का जमकर सामना नहीं कर पायी। सनथ जयसूर्या और कुमार संगकारा ने अर्धशतकीय पारी खेली, जबकि महेला जयवर्द्धने संघर्षपूर्ण पारी खेली। जिसकी मदद से श्रीलंका की टीम निर्धारित ओवरों में 8 विकेट खोकर 215 रन ही बना सकी।

श्रीलंका की पारी के दौरान ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने बढ़िया गेंदबाजी की। माइकल क्लार्क ने 5 ओवर में 33 रन देकर दो विकेट झटके। लेकिन मैन ऑफ द मैच चुने गए एडम गिलक्रिस्ट जिन्होंने यादगार शतकीय पारी खेली थी।

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।