close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

आज के दिन: श्रीलंकाई दिग्गज महेला जयवर्धने ने टेस्ट क्रिकेट को कहा था अलविदा 

टेस्ट क्रिकेट में काफी कम ऐसे खिलाड़ी देखने को मिले हैं, जिन्होंने देश ही नहीं बल्कि विदेशी पिचों में भी अपने प्रदर्शन से तारीफ बटोरी हैं। इसी में एक नाम श्रीलंकाई टीम के पूर्व खिलाड़ी और कप्तान महेला जयवर्धने का शामिल है। जब उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहली बार कदम रखा था, तो किसी को उम्मीद नहीं थी कि वे जब इसे अलविदा कहेंगे तो उनकी गिनती विश्व के दिग्गज बल्लेबाजों में की जाएगी। 

महेला जयवर्धने के करियर में उन्हें कुमार संगकारा जैसे खिलाड़ी का पूरा साथ मिला और दोनों मिलकर श्रीलंका की टीम को जिस अलग स्तर पर लेकर गए, वह पूरे क्रिकेट जगत ने देखा। इसमें साल 2007 और 2011 के वनडे वर्ल्ड कप के फाइनल तक टीम का सफर तय करना भी शामिल है। महेला टेस्ट के तो शानदार खिलाड़ी थे ही लेकिन वनडे और टी-20 क्रिकेट में भी वह एक खतरनाक बल्लेबाज के तौर पर माने जाते थे। 

पाकिस्तान के खिलाफ जीत के साथ कहा था टेस्ट क्रिकेट को अलविदा 

महेला जयवर्धने ने साल 2014 में अपना आखिरी अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच खेला था। उन्होंने यह मुकाबला कोलम्बो के सिंघली स्पोर्ट्स् क्लब में पाकिस्तान के खिलाफ खेला था। इस मैच में श्रीलंकाई टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 320 रन बनाकर अपनी पहली पारी खत्म की जिसमें महेला जयवर्धने सिर्फ 4 रन बनाकर पवेलियन लौट गए। 

पाकिस्तान की टीम अपनी पहली पारी में 332 रन बनाने में सफल रही जिसमें विकेटकीपरबल्लेबाज सरफराज अहमद ने शानदार 103 रनों की पारी खेली तो वहीं, श्रीलंका की तरफ से रंगना हेराथ ने अकेले 9 विकेट हासिल किए थे। 

श्रीलंका टीम की दूसरी पारी में महेला जरूर 54 रन बनाने में सफल रहे जिसके चलते टीम 282 रन बनाने के साथ स्पिन के लिए मददगार पिच पर पाकिस्तान को 271 रनों का लक्ष्य देने में कामयाब रही। इसके बाद रंगना हेराथ का जादू एक बार फिर से सभी को देखने को मिला और उन्होंने 5 विकेट हासिल करते हुए टीम को मैच में 105 रनों से जीत दिलाने के साथ महेला जयवर्धने को शानदार विदाई भी दी। 

ऐसा रहा अंतरराष्ट्रीय करियर 

श्रीलंकाई दिग्गज खिलाड़ी महेला जयवर्धने के अंतरराष्ट्रीय करियर को लेकर बात की जाए तो उन्होंने 149 टेस्ट मैचों में 49.84 की औसत से 11814 रन बनाए जिसमें 34 शतक और 50 अर्धशतकीय पारियां शामिल हैं इसके अलावा महेला के नाम टेस्ट क्रिकेट में 7 दोहरे शतक हैं और उनका सर्वाधिक स्कोर 374 रन है। 

वनडे करियर की बात की जाए तो वे 448 मैचों में 33.37 की औसत से 12650 रन बनाने में सफल रहे हैं। वहीं, उन्होंने 55 टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में 31.76 की औसत से 1493 रन बनाए हैं जिसमें एक शतकीय पारी भी शामिल है। इसके अलावा जयवर्धने ने अपनी बल्लेबाजी का जलवा दुनिया की सबसे बड़ी टी-20 लीग आईपीएल में भी दिखाया, जहां उन्होंने 80 मैचों में 28.6 की औसत से 1802 रन बनाए हैं। 

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद भी महेला जयवर्धने लगातार क्रिकेट से जुड़े रहे हैं और वह इस समय आईपीएल की सबसे सफल टीम मुंबई इंडियंस के लिए मुख्य कोच की भूमिका निभा रहे हैं। 

Leave a Response