close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

क्रिकेट बोर्ड के साथ भिड़ने की वजह से इन खिलाड़ियों को किया गया टीम से बाहर

एक सफल क्रिकेटर बनने के लिए खिलाड़ी के लिए तीन जरूरी चीजों की आवश्यकता होती है, ये हैं प्रतिभा, समर्पण और भाग्य। इनमें से एक भी चीज की कमी के चलते खिलाड़ी का करियर बर्बाद हो सकता है। कई बार ऐसा होता है कि खिलाड़ी अपने सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में होता है, लेकिन उस वक्त उसे अंतिम 11 में जगह नहीं मिलती है। इसकी वजह खिलाड़ियों के बीच आपसी मनमुटाव और बोर्ड के साथ कोल्ड वार का होना होता है। आज इस खास लेख में हम आपको ऐसे शानदार खिलाड़ियों के बारे में बता रहे हैं, जिनका अपने बोर्ड से विवाद हुआ और बाद में उनका करियर चौपट हो गया।

ड्वेन ब्रावो

कैरेबियाई क्रिकेटर ड्वेन ब्रावो ने बल्ले और गेंद दोनों से अपनी क्षमता दिखाई है, जिसके लिए दुनिया भर में उनकी प्रशंसा की जाती है। उन्होंने कई बार वेस्टइंडीज के लिए भी शानदार प्रदर्शन किया है, लेकिन चौंकाने वाला तथ्य यह है कि उनका वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड के साथ रिश्ता अच्छा नहीं रहा है। उन्होंने हमेशा टीम सेलेक्शन को लेकर बोर्ड से सवाल किया है। यही वजह रही है कि कई बार उन्हें वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड ने टीम से बाहर किया। कई बार तो वह लंबे समय तक टीम से बाहर रहे, जिससे वह परेशान होकर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा भी कह दिया। हालांकि पिछले साल जब बोर्ड में बदलाव हुआ, तो उन्होंने संन्यास से टीम में वापसी की।

केविन पीटरसन

इंग्लैंड के बेहतरीन बल्लेबाज रहे केविन पीटरसन ने अपने दौर में साल 2005 में टीम को एशेज का खिताब और साल 2010 में इंग्लैंड को पहला आईसीसीस खिताब यानी टी-20 विश्वकप जिताया। हालांकि उनके रिश्ते भी ईसीबी से तल्ख रहे और उनके सोशल मीडिया पोस्ट ने उन्हें विलेन बना दिया। जिसके चलते इंग्लिश क्रिकेट बोर्ड ने उन्हें टीम से बाहर कर दिया। यही नहीं पीटरसन पर आरोप लगे कि उन्होंने दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटरों को मैसेज किया है। इस विवाद ने बड़ा रूप ले लिया और पीटरसन का करियर ही खत्म हो गया।

शोएब अख्तर

अपनी तेज गेंदबाजी से पूरी दुनिया में लोहा मनवाने वाले पाकिस्तानी गेंदबाज शोएब अख्तर अपने पूरे करियर में विवादित चेहरा रहे। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के साथ उनके रिश्ते हमेशा तल्खी भरे रहे, जिसके चलते उनका करियर लंबा नहीं चला। उनकी समस्याओं को समझने के बजाय उनके साथी खिलाड़ी उनके स्वाभाव को नापसंद करते थे। पीसीबी को भी अख्तर में ईगो नजर आता था और इसी वजह से शोएब का करियर उनकी हैसियत वाले गेंदबाज की तरह लंबा नहीं चला।

क्रिस गेल

बाएं हाथ के विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल और विवादों का नाता रहा है। साल 2011 में जब वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड ने क्रिस गेल के साथ सभी सीनियर खिलाड़ियों को टीम से ड्रॉप करने का निर्णय लिया, तब गेल व अन्य खिलाड़ियों ने इसका जमकर विरोध किया। उसी समय गेल ने बोर्ड की इच्छाओं के विपरीत गेल ने आरसीबी के साथ आईपीएल करार किया। साथ ही एक रेडियो इंटरव्यू में कैरेबियाई बोर्ड की जमकर धज्जियां उड़ाई। जिसके चलते भारत दौरे के लिए घोषित टीम में गेल को नहीं शामिल किया गया। हालांकि गेल ने बाद में माफी मांगी और उन्हें दोबारा टीम में शामिल कर लिया गया।

IPL 2020 में ये खिलाड़ी साबित हो रहे हैं टीमों के लिए घाटे का सौदा

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।