close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

प्रवीण कुमार : वह भारतीय क्रिकेटर जिसने छोटे से करियर में कमाया बड़ा नाम

भारत में ऐसे कई क्रिकेटर हुए हैं, जिन्हें भारतीय टीम में खेलने का मौका तो बहुत कम मिला लेकिन जितना भी मिला, उन्होंने उसे पूरा उपयोग किया। जिसकी वजह से उन खिलाड़ियों ने कम समय में ही प्रसिद्धि हासिल की और अपनी एक अलग छाप छोड़ी। कुछ ऐसी ही कहानी है भारत के पूर्व तेज गेंदबाज प्रवीण कुमार की जिन्होंने अपनी गेंदबाजी के जादू से सभी को प्रभावित करने का काम किया और एक छोटे से करियर में जबरदस्त सफलता हासिल की लेकिन अक्सर चोटिल रहने के कारण यह टीम में अपनी जगह नियमित नहीं कर सके।

यही कारण रहा कि प्रवीण कुमार अपने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट करियर को ज्यादा लंबा नहीं खींच सके और साल 2018 में अपने करियर को अलविदा भी कह दिया। बताते चलें कि प्रवीण कुमार का जन्म 2 जुलाई 1986 को शामली जिले के लाप्रना गांव में हुआ था और इनके पिता एक पुलिस हेड कॉन्सटेबल थे। एक मध्यमवर्गीय परिवार से होने के कारण अपना क्रिकेटर बनने का सपना इन्होंने अपने हुनर के बल पर पूरा किया।

प्रवीण कुमार ने सन 2007 में एन.के.पी. सालवे चैलेंजर ट्रॉफी में काफी जोरदार प्रदर्शन किया था। जिसमें वह इंडिया रेड की तरफ से खेले थे। इस प्रदर्शन की वजह से ही भारतीय टीम के सेलेक्टर्स की नजर उन पर पड़ी थी। जिसके बाद सन 2007 में ही इन्होंने भारतीय टीम की ओर से पाकिस्तान के खिलाफ अपने वनडे करियर की शुरुआत की और इसके बाद मैच दर मैच वह बेहतर प्रदर्शन करते चले गए। प्रवीण कुमार ने सन 2008 में ऑस्ट्रेलिया के सी.बी ट्रॉफी में शानदार प्रदर्शन किया था। उन्होंने इस ट्रॉफी में मात्र 4 मैचों में ही 10 विकेट अपने नाम किए थे। यही नहीं प्रवीण कुमार की गेंदबाजी के दम पर ही भारत ने खिताब अपने नाम किया था।

प्रवीण कुमार की खासियत यह थी कि बल्लेबाज उनकी गेंद की गति को समझ नहीं पाते थे और इसी का फायदा उठाते हुए प्रवीण कुमार ने कम समय में ही अपार सफलता हासिल की। प्रवीण कुमार ने अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर में मात्र 68 वनडे मैच ही खेले हैं और इसमें उन्होंने 77 विकेट हासिल किए। उन्होंने वनडे मैचों की एक पारी में तीन बार 4 विकेट लेने का कमाल किया। इसके अलावा उन्होंने अपने वनडे करियर में 292 रन भी बनाए।

इसके अलावा प्रवीण कुमार ने अपने करियर में 6 टेस्ट मैच भी खेले। उन्होंने अपना पहला टेस्ट मैच 20 जून 2011 में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था और अपना अंतिम टेस्ट मैच उन्होंने 13 अगस्त 2011 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था। प्रवीण कुमार ने अपने छोटे से टेस्ट करियर में 27 विकेट हासिल किए हैं। इसके अलावा उन्होंने 149 रन भी बनाए हैं। उन्होंने टेस्ट मैच में एक बार इनिंग में 5 विकेट लेने का कमाल किया।

प्रवीण कुमार का फर्स्ट क्लास क्रिकेट करियर भी शानदार रहा है। उन्होंने अपने फर्स्ट क्लास क्रिकेट करियर में 66 मैचों में ही 2110 रन बनाए और 267 विकेट अपने नाम किए हैं। जिसमें उन्होंने 17 बार एक इनिंग में पांच विकेट लेने का कमाल किया। गौरतलब हो कि प्रवीण कुमार ने अपना अंतिम वनडे मैच 18 मार्च 2012 को श्रीलंका के खिलाफ खेला था। जिसके बाद से ही वह अक्सर चोट के कारण टीम से बाहर रहे। यही नहीं उन्हें चोट के कारण ही 2011 विश्वकप से भी बाहर होना पड़ा था। बताते चलें कि प्रवीण कुमार ने सन 2010 में एक राष्ट्रीय स्तर की शूटिंग खिलाड़ी सपना चौधरी से शादी की थी। जिनसे इन्हें एक बेटा भी है।

Leave a Response