close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

रणजी ट्रॉफी: दिल्ली ने दर्ज की रोमांचक जीत, सरफराज का तिहरा शतक

रणजी ट्रॉफी के छठे राउंड में कई रोमांचक मुकाबले देखने को मिले जिसमें दिल्ली की जीत बेहद खास रही। ग्रुप ए के इस मुकाबले में दिल्ली ने दो बार से लगातार रणजी चैंपियन बन रही विदर्भ को 6 विकेट से हरा दिया। दिल्ली की यह जीत इसलिए भी खास रही क्योंकि उसने चौथे और आखिरी दिन 347 रनों के लक्ष्य का पीछा 73 ओवर में कर लिया। दिल्ली की जीत में नीतीश राणा का प्रदर्शन शानदार रहा जिन्होंने महज 68 गेंदों में 105 रनों की धमाकेदार पारी खेली।

दूसरी तरफ विदर्भ के कप्तान फैज फजल का पारी घोषित करने का फैसला टीम के हित में नहीं गया और नवंबर 2016 के बाद दो बार की चैंपियन विदर्भ को पहली बार हार का सामना करना पड़ा।

चौथे दिन 10 रन से पारी शुरू करने उतरी दिल्ली को कुणाल चंदेला (75) और हितेन दलाल (82) की सलामी जोड़ी ने 163 रनों की बेहतरीन शुरुआत दी। हालांकि 169 तक पहुंचते-पहुंचते दोनों पवेलियन लौट गए। राणा ने इसके बाद कप्तान ध्रुव शोरे (44) के साथ तीसरे विकेट के लिए महज14.5 ओवर में 118 रन की साझेदारी कर टीम को लक्ष्य के करीब पहुंचा दिया।

कप्तान के आउट होने के बाद राणा ने मोर्चा संभाला और सात छक्कों और आठ चौकौं की मदद से टीम को रणजी में एक और यादगार जीत दिला दी।

रणजी ट्रॉफी के इस सीजन में दिल्ली की यह दूसरी जीत है और उसे छह अंक मिले। टीम के पांच मैचों में 16 अंक हो गए हैं। विदर्भ के इतने ही मैचों में 17 अंक हैं।

ग्रुप ए के एक अन्य मैच में गुजरात ने पंजाब को 110 रन से हराया। गुजरात के 220 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए पंजाब की टीम 109 रन पर ढेर हो गई। गुजरात को इस जीत से छह अंक मिले। टीम के पांच मैचों में 19 अंक हो गए हैं। पंजाब के छह मैचों में 18 अंक हैं।

सरफराज का तिहरा शतक

दूसरी तरफ एलीट ग्रुप बी में मुंबई और उत्तर प्रदेश के बीच हाई स्कोर मुकाबला बिना किसी नतीजे के खत्म हो गया। हालांकि इस मुकाबले को मुंबई के मिडिलि ऑर्डर के बल्लेबाज सरफराज खान(नाबाद 301) ने अपने तिहरे शतक के साथ बेहद खास बना दिया। सरफराज छठे नंबर पर उतर कर तिहरा शतक लगाने वाले तीसरे बल्लेबाज बने।

उत्तर प्रदेश ने पहली पारी आठ विकट पर 625 रन पर पारी घोषित की जिसके जवाब में मुंबई ने मैच के चौथे दिन सात विकेट पर 688 रन बनाकर पारी घोषित की। मुंबई की पारी घोषित होते ही मैच को समाप्त कर दिया गया। पहली पारी में बढ़त के कारण मुंबई को तीन अंक मिले।

पढ़ें रणजी में जड़ा तिहरा शतक लेकिन आईपीएल में नहीं बिके थे मनोज तिवारी

सरफराज ने 391 गेंद की अपनी पारी में 30 चौके और आठ छक्के लगाए। मुंबई ने दिन की शुरूआत पांच विकेट पर 353 रन पर की उस वक्त सरफराज 132 और कप्तान आदित्य तारे नौ रन बनाकर खेल रहे थे। तारे हालांकि शतक लगाने से चूक गये और 97 रनों की पारी खेली दोनों ने छठे विकेट के लिए 179 रन की साझेदारी कर टीम को मजबूत स्थिति में पहुंचाया।

इस मैच के बाद मुंबई के पांच मैच में 12 और उत्तर प्रदेश के छह मैच में 14 अंक हो गए हैं।

ग्रुप के अन्य मुकाबले में सौराष्ट्र और मध्य प्रदेश के बीच रोमांचक मैच ड्रॉ पर खत्म हुआ। मध्यप्रदेश को चौथी पारी में जीत के लिए 321 रन चाहिए थे लेकिन खेल खत्म होने तक टीम नौ विकेट पर 223 रन बना सकी। सौराष्ट्र को पहली पारी में बढ़त के आधार पर तीन अंक मिले। टीम अगर एक और विकेट चटका लेती तो उसे छह अंक मिल सकते थे। मध्य प्रदेश को एक अंक से संतोष करना पड़ा।

वहीं धर्मशाला में हिमाचल प्रदेश और बड़ौदा के बीच खेले गए मैच में चौथे दिन एक भी गेंद नहीं फेंकी जा सकी। हिमाचल प्रदेश के 146 रन के जवाब में बडौदा ने पहली पारी में दो विकेट पर 150 रन बनाये थे। दोनों टीमों को पहली पारी खत्म नहीं होने के कारण 1-1 अंक से संतोष करना पड़ा।

Leave a Response

Shashank

The author Shashank

2011 विश्व कप के साथ शशांक ने अपनी खेल पत्रकारिता की शुरआत की। क्रिकेट के मैदान से लेकर हर छोटी बड़ी खबरों पर इनकी नज़र रहती है। खेल की बारीकियों से लेकर रिकॉर्ड बुक तक, हर उस पहलू पर नजर होती है जिसे आप पढ़ना और जानना चाहते हैं। क्रिकेट के अलावा दूसरे खेलों में भी इनकी गहरी रूची है। कई बड़े मीडिया हाउस को अपनी सेवा दे चुके हैं।