close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

सचिन तेंदुलकर ने छह राज्यों के जरूरतमंद बच्चों तक पहुंचाई सहायता

भारत धीरे-धीरे कोरोना वायरस की गिरफ्त से बाहर निकल रहा है। हालांकि इसके बावजूद भी देश के कई भागों में लोगों को मदद की दरकार है। मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर लगातार लोगों तक मदद पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं। हाल ही में इस दिग्गज क्रिकेटर ने भारत के 6 राज्यों के गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन कर रहे 100 बच्चों को मदद पहुंचाने का काम किया है।

बच्चे देश का भविष्य हैं और तेंदुलकर समाज के अति पिछड़े बच्चों के जीवन को बेहतर करने के लिए लगातार प्रयासरत हैं। पूर्व में उन्होंने बच्चों के हॉस्पिटल और उनके बेहतर खानपान व खेल से जुड़ने में मदद पहुंचाई है। मौजूदा प्रोग्राम एकम फाउंडेशन कोविड-19 महामारी से प्रभावित बच्चों के लिए चलाया जा रहा है। ये सभी मरीज महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, असम, कर्नाटक, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के हैं।

एकम फाउंडेशन की मैनेजिंग पार्टनर सुश्री अमिता चटर्जी ने कहा, “श्री सचिन तेंदुलकर का उनके फाउंडेशन से जुड़ना बहुत ही मददगार रहा है और उन्होंने स्वास्थ्य सेवा के क्षेत्र में बहुत अच्छा काम किया है। एसोसिएशन ने वंचितों के लिए गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने की दिशा में काम किया है।”

यह प्रयास लोगों को गुणवत्तापूर्ण उपचार पहुंचाने व उसके चिंताओं को दूर करने में केंद्रित है। ये बच्चे मुख्य रूप से अभावग्रस्त परिवारों से हैं, जो गंभीर बीमारियों से पीड़ित हैं। जिनका परिवार इलाज का खर्च उठाने में असमर्थ है। उन्हें अब एकम फाउंडेशन के जरिए तेंदुलकर का समर्थन मिला है।

इस महीने की शुरुआत में, सचिन तेंदुलकर ने असम के माकुंदा हॉस्पिटल को 2000 बच्चों के इलाज के लिए बाल चिकित्सा उपकरणों की मदद पहुंचाई थी। महान क्रिकेटर ने विश्व बाल दिवस पर यूनिसेफ के साथ मिलकर एक खास पहल में भी भाग लिया, जिससे बच्चों को बेहतर दुनिया बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए प्रोत्साहित किया था।

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।