close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

संजय बांगड़ ने किया खुलासा, क्यों धोनी को सातवें नंबर पर भेजा गया था

विश्वकप 2019 में भारतीय टीम सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड से हारकर बाहर हो गई थी। जिसके बाद टीम इंडिया पर कई तरह के सवाल उठे, जिसमें से नाजुक और दर्द देने वाला सवाल ये था कि आखिर क्यों पूर्व कप्तान एमएस धोनी को सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए भेजा गया।

ये भी पढ़ेंः भारत की सेमीफाइनल में हार क्या बोले पूर्व क्रिकेटर

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्मण ने भी टीम मैनेजमेंट को सवालों के कटघरे में खड़ा किया था। ये दिग्गज क्रिकेटर धोनी के बल्लेबाजी क्रम से हैरान थे और भारतीय टीम के हार का इसे सबसे बड़ा कारण मान रहे थे। हालांकि कप्तान विराट कोहली ने सेमीफाइनल में 45 मिनट के खराब खेल को भारतीय टीम की हार की वजह बताई थी। लेकिन ड्रेसिंग रूम में उस वक्त भारतीय टीम का हिस्सा रहे और बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ ने पहली बार इस सवाल का जवाब दिया।

बिना किसी शंका के मैं धोनी को उनके पसंदीदा पांचवें नंबर पर भेजताः सचिन तेंदुलकर

भारतीय टीम का अभियान रहा बेहतरीन

वेस्टइंडीज दौरे पर निकलने पहले संजय बांगड़ ने कहा कि भारत ने टॉप टीमों के खिलाफ शानदार प्रदर्शन किया। एक टीम के रूप में भारत ने शानदार प्रदर्शन किया। लेकिन सेमीफाइनल में 30-40 मिनट के खराब खेल ने टीम को न्यूजीलैंड के खिलाफ हार की तरफ धकेल दिया।

क्या विजय शंकर फिट थे

संजय बांगड़ ने विजय शंकर की चोट पर असमंजस भरे जवाब प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिये थे। लेकिन उनकी अब वह इस पर सफाई देते हुए कहते हैं कि विजय शंकर की फिटनेस को लेकर मुझसे एक भी सवाल नहीं पूछा गया। प्रेस कॉन्फ्रेंस में सिर्फ वह ही जवाब नहीं दे रहे थे, फिजियो की राय भी ली गई थी। जो खिलाड़ियों की चोटों पर नियमित रूप से नजर रखते हैं।

संजय बांगड़ ने कहा

विजय शंकर 19 जून को चोटिल हुए, मामूली चोट थी इसलिए वह 22 व 27 जून के मुकाबले में खेले। लेकिन उसके बाद उनके बाएं पैर में दर्द हुआ और एक्सरे में हल्का फ्रैक्चर पाया गया। क्योंकि ऐसी स्थिति में विजय गेंदबाजी नहीं कर सकते थे, तब टीम प्रबंधन ने फैसला किया कि वह बतौर बल्लेबाज 30 जून के मुकाबले में खेलेंगे। वहीं अगले मैच में जब केएल राहुल चोटिल हो गए और टीम प्रबंधन ने सोचा कि यदि राहुल फिट नहीं हो पाते हैं। तब उनके पास विकल्प में सलामी बल्लेबाज नहीं है, लेकिन बाद में फिजियो ने विजय के बारे में अपडेट दिया। इसलिए हमने उनके रिप्लेसमेंट में सलामी बल्लेबाज मांग की।

धोनी को नंबर सात पर भेजने के जवाब में बांगड़ ने कहा

मुझे आश्चर्य होता है कि लोग इस मामले में मेरी तरफ देखते हैं। यह अकेले मेरा निर्णय नहीं था। हमने सारी स्थितियों का जायजा लिया और उसके बाद यह निर्णय हुआ। विश्वकप की शुरुआत में ही कुछ जिम्मेदारियां बल्लेबाजों को दी गई। यह भी निर्णय किया गया था कि पांच, छह और सातवें नंबर बल्लेबाजी क्रम को लचीला रखा जाए और इस बात से सभी खिलाड़ी वाकिफ थे।

कोहली व शास्त्री की भी थी यही राय

कप्तान विराट कोहली ने भी सेमीफाइनल के बाद कहा था कि अफगानिस्तान के साथ हुए मुकाबले के बाद यह तय किया गया था कि धौनी निचले क्रम में खेलेंगे। इसलिए उन्हें सेमीफाइनल में सातवें नंबर पर भेजा गया। टीम के मुख्य कोच रवि शास्त्री ने भी यही कहा है कि धौनी को नीचे भेजने का निर्णय पूरी टीम का था।

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।