close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

आईपीएल खेलने वाले ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को वेस्टइंडीज का दौरा करना चाहिए था?

ऑस्ट्रेलियाई टीम लंबे समय के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने मैदान में उतरेगी, जिसमें टीम को अपनी पहली सीरीज वेस्टइंडीज़ में लिमिटेड ओवर्स की खेलनी है। इस सीरीज की शुरुआत 9 जुलाई से 5 मैचों की टी-20 सीरीज के साथ होगी, जिसके बाद दोनों ही टीमों के बीच में 3 मैचों की वनडे सीरीज भी खेली जाएगी। ऑस्ट्रेलिया इस सीरीज से अपने टी-20 विश्वकप की तैयारियों को परखना चाहेगी।

इस लिमिटेड ओवर्स सीरीज के लिए ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड ने टीम का ऐलान कर दिया है, जिसमें से कई दिग्गज खिलाड़ियों ने अपना नाम वापस ले लिया है। डेविड वॉर्नर, स्टीव स्मिथ, ग्लैन मैक्सवेल और पैट कमिंस के नाम नदारद हैं। जिसको लेकर सभी के मन में यह खड़े हो रहे हैं कि क्या आईपीएल के बाकी बचे मैचों से पहले इन खिलाड़ियों का क्रिकेट से लंबे समय तक दूर रहना इनकी टीमों के लिए भारी तो नहीं पड़ सकता है।

आईपीएल के बाकी बचे मैचों से पहले नहीं मिलेगा अभ्यास

वेस्टइंडीज के खिलाफ ऑस्ट्रेलियाई टीम की यह लिमिटेड ओवर्स की सीरीज 24 जुलाई को खत्म होगी, जिसके बाद उसे टी-20 वर्ल्डकप से पहले लिमिटेड ओवर्स की सीरीज खेलने का मौका शायद ही मिले। वहीं आईपीएल के बाकी बचे मैचों का आयोजन भी सितंबर और अक्टूबर के बीच में बीसीसीआई ने कराने का फैसला लिया है। इसके चलते ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज खिलाड़ियों का विंडीज सीरीज से बाहर होने के फैसले ने सभी को चौंकाया है।

लंबे क्वारंटाइन के कारण लिया यह फैसला

इस सीरीज में स्टीव स्मिथ ने जहां चोटिल होने के चलते बाहर बैठने का फैसला किया है, वहीं बाकी के खिलाड़ियों ने लगातार क्वारंटाइन में रहने के चलते बाहर होने का फैसला किया। दरअसल ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को भारत में आईपीएल बीच में रुकने के बाद मालदीव में 10 से 15 दिन के क्वारंटाइन में रहने के बाद वापस देश में वापसी के लिए प्लेन मिला था।

लगभग 6 खिलाड़ियों के बाहर होने पर ऑस्ट्रेलियाई चयनकर्ता ने निराशा जरूर व्यक्त की, लेकिन उन्होंने कोरोना महामारी के दौरान खिलाड़ियों के बायो बबल में रहने को भी आसान नहीं बताया। हालांकि आईपीएल के बाकी बचे मैचों में देखने को मिलेगा कि इन खिलाड़ियों को इस आराम से लाभ हुआ कि नुकसान।

Leave a Response