close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाज और फील्डर की पांच सबसे सफल जोड़ी

क्रिकेट के मुकाबलों में साझेदारियों का अहम योगदान है। मैच के दौरान अगर साझेदारी न हुई तो फिर टीम की जीत काफी मुश्किल हो जाती है। फिर चाहे वो बल्लेबाजी हो या फिर गेंदबाजी। एक ऐसी ही साझेदारी मैदान पर और देखने की मिलती है जब गेंदबाजों को फील्डरों का साथ मिलता है। मैदान पर इन जोड़ियों की ज्यादा चर्चा नहीं होती लेकिन टीम के लिए यह काफी अहम होते है। एक गेंदबाज ही समझ सकता है कि जब मैच में कोई चांस बने तो उसे लपकने के समय टीम का बेस्ट प्लेयर सामने हो। तो आइए जानते हैं टेस्ट क्रिकेट में गेंदबाज और फील्डरों की पांच बेहतरीन जोड़ी में कौन कौन शामिल हैं।

एंडरसन और कुक

इंग्लैंड के दो सबसे बेहतरीन खिलाड़ी इस लिस्ट में पांचवें नंबर पर आते हैं। सलामी बल्लेबाज और स्लिप के बेहतरीन फील्डर एलिएस्टर कुक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले चुके हैं जबकि तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन इसके करीब हैं। कुक इंग्लैंड की ओर से सबसे अधिक कैच लेने वाले खिलाड़ी हैं जबकि एंडरसन सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज।

पढ़ें – टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक कैच लेने वाले फील्डर

2008 से 2018 तक ये दोनों जोड़ी मैदान पर रही, इस दौरान कुक ने अपने करियर में कुल 175 कैच लपके जिसमें एंडरसन की गेंद पर सबसे अधिक 40 कैच रहे।

हरभजन और द्रविड़

राहुल द्रविड़ को स्लिप का सबसे बेहतरीन फील्डिर माना जाता रहा है। अपने करियर में उन्होंने कई बेहतरीन और यादगार कैच लपके। स्पिनरों के सामने विकेट के पीछे कैच लेना आसान नहीं रहता लेकिन द्रविड़ इसमें माहिर थे। उन्होंने न सिर्फ भारत के लिए बल्कि विश्व क्रिकेट में सबसे अधिक 210 कैच लपके हैं। दूसरी तरफ हरभजन सिंह भारत की ओर से सबसे अधिक विकेट लेने के मामले में तीसरे नंबर पर हैं।

भज्जी ने अपने करियर में कुल 417 विकेट चटकाए जिसमें 51 कैच द्रविड़ ने लपके। गेंदबाजों और फील्डरों की जोड़ी में इनका नंबर चौथा है।

वॉर्न और टेलर

शेन वॉर्न टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक विकेट(708) लेने के मामले में दूसरे स्थान पर हैं। दूसरी तरफ ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान मार्क टेलर एक समय देश की ओर से 157 कैच के साथ सबसे आगे थे। टेलर को भी स्लिप का बेहतरीन फील्डर माना जाता है। दोनों ने एक साथ 6 साल मैदान पर बिताए और इतने कम समय में ही ये जोड़ी काफी सफल हो गई।

वॉर्न की गेंद पर टेलर ने कुल 51 कैच लपके जिसके साथ यह जोड़ी इस लिस्ट में तीसरे स्थान पर आती है।

कुंबले और द्रविड़

राहुल द्रविड़ इस लिस्ट में दो बार शामिल होने वाले अकेले खिलाड़ी हैं। इससे पहले वो हरभजन के साथ भी लिस्ट में अपनी जगह बना चुके हैं। टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज अनिल कुंबले की गेंद पर उन्होंने सबसे ज्यादा कैच लपके हैं। दोनों एक साथ 12 साल तक टीम के साथ रहे। कुंबले ने जहां 619 विकेट लिए तो वहीं द्रविड़ के नाम 210 कैच रहे।

कुंबले की गेंद पर राहुल द्रविड़ ने 55 विकेट लिए और यह जोड़ी इस लिस्ट में दूसरे स्थान पर है।

मुरलीधरन और जयवर्धने

टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक विकेट लेने का रिकॉर्ड मुथैया मुरलीधरन के नाम है। उन्होंने अपने करियर में कुल 800 विकेट चटकाए। वहीं माहेला जयवर्धने ने टेस्ट क्रिकेट में 205 कैच लपके। द्रविड़ की तरह जयवर्धने भी स्लिप के बेहतरीन फील्डर रहे हैं। श्रीलंका की यह बेमिसाल जोड़ी 1997 से 2010 तक एक साथ खेली।

इन 13 साल के दरमियान जयवर्धने से मुरली की गेंद पर सबसे अधिक कुल 77 कैच लपके। पहले और दूसरे नंबर को देखें तो यह अंतर काफी बड़ा है। मौजूदा समय की बात करें तो टॉप फाइव में शामिल इन जोड़ियों को टक्कर देने वाला कोई नहीं दिखता नहीं है। नाथन लियोन की गेंद पर 34 कैच के साथ स्टीव स्मिथ अभी 12वें नंबर पर हैं।

Leave a Response