close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

एशेज सीरीज का इतिहास, जानें किस टीम ने जीते हैं सबसे ज्यादा मुकाबले

सन् 1877 में टेस्ट क्रिकेट का आरंभ इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच हुए मुकाबले से हुआ था। क्रिकेट के शुरूआती दिनों में ज्यादातर मुकाबला ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच ही खेला जाता था, क्योंकि दुनिया में तब तक क्रिकेट उतना लोकप्रिय नहीं हुआ था। इसलिए ये दोनों देश एक दूसरे के सबसे पुराने प्रतिस्पर्धी हैं, जिसका क्रेज आज भी बरकरार है। लेकिन क्या आपको पता है कि इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच होने वाले टेस्ट सीरीज का नाम एशेज कैसे पड़ गया और इसके पीछे की क्या कहानी है।

एशेज सीरीज का नामकरण ब्रिटिश मीडिया ने किया था। दरअसल इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच सन् 1882 टेस्ट सीरीज खेली जा रही थी, जिसमें ओवल के मैदान पर होने वाले टेस्ट मैच में इंग्लैंड जीता हुआ मुकाबला हार गया। पहली बार इंग्लैंड को ऑस्ट्रेलिया उसकी धरती पर हराने में कामयाब हुआ था।

ऑस्ट्रेलिया से मिली इस करारी हार को ब्रिटिश मीडिया बर्दाश्त नहीं कर पाया। अखबार द स्पोर्टिंग टाइम्स ने लिखा कि इंग्लैंड में क्रिकेट की मौत हो चुकी है और उसकी चिता जलाने के बाद राख (एशेज) ऑस्ट्रेलिया टीम अपने साथ ले जा रही है। उसके बाद इंग्लैंड टीम के ऑस्ट्रेलियाई दौरे को ब्रिटिश मीडिया ने इंग्लैंड की प्रतिष्ठा से जोड़ दिया।

अखबार द स्पोर्टिंग टाइम्स ने एक शोक संदेश छापा

इंग्लिश क्रिकेट का देहान्त हो चुका है। तारीख 29 अगस्त 1882, ओवल और अब इनका अंतिम संस्कार के बाद राख यानी एशेज ऑस्ट्रेलिया ले जाई जायेगी। जब 1883 में इंग्लिश टीम ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर रवाना हुई तो इसी लाइन को आगे बढ़ाते हुए इंग्लिश मीडिया ने इंग्लैंड टीम के सामने एशेज को वापस लाने की शर्त रखी।

इंग्लैंड टीम के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर इंग्लैंड के कप्तान इवो ब्लिग को गिल्ली (बेल्स) की राख (एशेज) तोहफे में दी गई, जो इस सीरीज की प्रतीक बन गई। वहीं से  ये परम्परा चली और आज भी एशेज की ट्रॉफी उसी राख वाले बर्तन को ही माना जाता है।

एशेज में हेड टू हेड

सन् 1882 से अबतक एशेज सीरीज में 334 बार इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया एक दूसरे के आमने-सामने आ चुके हैं। जिसमें ऑस्ट्रेलिया ने 134 बार इंग्लैंड को हराया है, जबकि इंग्लैंड ने कंगारुओं को 106 बार हराया है। इस दौरान 90 मुकाबले ड्रॉ पर छूटे हैं।

सीरीज के आंकड़े

इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच 137 वर्षों के एशेज इतिहास में कुल 70 सीरीज हुई हैं, जिसमें 33 बार ऑस्ट्रेलिया ने और 32 बार इंग्लैंड ने कब्जा किया है। ऑस्ट्रेलिया की धरती पर कुल 167 मैच हुए, जबकि इंग्लैंड में एशेज के 163 मुकाबले खेले गए हैं।

इंग्लैंड में एशेज

एशेज सीरीज की मेजबानी इंग्लैंड ने 35 बार की है, जिसमें अंग्रेजों ने 18 बार और कंगारुओं ने 14 बार कब्जा किया है। इस दौरान हुए कुल 163 मुकाबले में से ऑस्ट्रेलिया ने 48 व इंग्लैंड ने 50 में जीत दर्ज की है।

ऑस्ट्रेलिया में एशेज

कंगारूओं ने 35 बार एशेज सीरीज की मेजबानी की, जिसमें 167 मुकाबले हुए हैं। इस दौरान ऑस्ट्रेलिया ने 86 मैचों में व इंग्लैंड ने 56 में जीत दर्ज की है, जबकि कंगारुओं ने 19 बार व अंग्रेजों ने इस दरम्यान 14 बार सीरीज पर कब्जा किया है।

नोटः ये आर्टिकल जुलाई 23, 2019 को लिखा गया है।

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।