close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

क्या भारत के खिलाफ मिली जीत श्रीलंका के लिए संजीवनी साबित होगी

श्रीलंका की टीम जब भारत के खिलाफ अपने देश में लिमिटेड ओवर्स की सीरीज खेलने जा रही थी, तो उस समय क्रिकेट विशेषज्ञों ने यह अनुमान लगाया था कि वनडे और टी-20 सीरीज दोनों में टीम जीत हासिल नहीं कर पाएगी। वनडे में भले ही टीम को 1 मैच में जीत मिली लेकिन श्रीलंका ने टी-20 सीरीज को 2-1 से अपने नाम करते हुए सभी को अपने खेल से जवाब दिया।

इस सीरीज से पहले श्रीलंकाई टीम को लगातार हार का सामना करना पड़ रहा था और ऐसा लग रहा था कि टीम को इस स्थिति से निकलने में समय लगेगा। भारत के खिलाफ सीरीज से पहले श्रीलंका टीम के चयनकर्ताओं ने जहां कप्तानी में बदलाव करते हुए दशुन शनाका को जिम्मेदारी सौंपी तो वहीं, टीम में कई नए खिलाड़ियों को भी मौका दिया और अब इस सीरीज के बाद आइए जानते हैं क्या टीम सही दिशा में आगे बढ़ रही है।

ओपनिंग में अच्छे दिखे फर्नांडो

भारत के खिलाफ 3 वनडे और 3 टी-20 मैचों की सीरीज में श्रीलंकाई टीम के ओपनिंग बल्लेबाज अविष्का फर्नांडो ने अपनी बल्लेबाजी से सबसे ज्यादा प्रभावित किया। उन्होंने 3 वनडे मैचों में जहां 53 की औसत से सबसे ज्यादा 159 रन बनाए तो वहीं, टी-20 सीरीज में भी फर्नांडो ने कुल 49 रन बनाए। उनकी बल्लेबाजी देखने के बाद यह उम्मीद लगाई जा सकती है कि वह टीम के लिए लंबे समय तक इस स्थान पर खेलने की जिम्मेदारी निभा सकते हैं।

मध्यक्रम में असलंका दिखे अच्छे

श्रीलंकाई टीम के लिए सबसे बड़ी समस्या उसका मध्यक्रम रहा है क्योंकि ओपनिंग बल्लेबाज यदि जल्दी पवेलियन लौट जाते हैं तो टीम बड़ा स्कोर बनाने में कामयाब नहीं हो पा रही थी। लेकिन चरिथ असलंका ने भारत के खिलाफ सीरीज के दौरान मध्यक्रम में अपनी बल्लेबाजी से यह संदेश देने का काम किया कि यदि उन्हें थोड़ा और ऊपर बल्लेबाजी के लिए भेजा जाए तो वह बड़ी पारी खेलने में भी सक्षम हैं।

वानिंदु हसरंगा टीम के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि

टी-20 सीरीज में श्रीलंका के लिए सबसे बड़ी खुशी वानिंदु हसरंगा के प्रदर्शन को देखने के बाद हुई होगी क्योंकि भारतीय बल्लेबाज स्पिन के बेहतर खिलाड़ी माने जाते हैं। इसके बावजूद वे हसरंगा की गेंदों को समझने में नाकाम साबित हुए और उनके आगे संघर्ष करते हुए दिखाई दिए। हसरंगा ने 3 टी-20 मैचों में 7 विकेट हासिल किए जिसमें निर्णायक मुकाबले में उन्होंने 4 भारतीय बल्लेबाजों को पवेलियन भेजा था।

Leave a Response