close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

अंतरराष्ट्रीय टी-20 क्रिकेट के तीन सबसे बड़े रन चेज

क्रिकेट में एक समय किसी भी टीम के लिए लक्ष्य का पीछा करना आसान काम नहीं होता था, लेकिन टी-20 फॉर्मेट के शुरू होने के साथ अब टीमों की सोच में एक बड़ा बदलाव देखने को मिला है। इसकी सबसे बड़ी वजह पिचों का भी पूरी पारी के दौरान बल्लेबाजी के लिए काफी मुफीद होना है और इस कारण अब अधिकतर टीमें टॉस जीतने के बाद पहले गेंदबाजी करने का फैसला करती हुई दिखाई देती हैं।

टी-20 क्रिकेट में भी हमें ऐसा ही देखने को मिलता है, जहां टीम 200 से अधिक का लक्ष्य भी हासिल करती हुई दिख जाती हैं। इस कारण मौजूदा दौर में कोई भी लक्ष्य अब पूरी तरह से सुरक्षित नहीं माना जाता है। जिसके बाद हम आपको टी-20 अंतरराष्ट्रीय में अब तक के 3 ऐसे बड़े सफल लक्ष्यों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका पीछा करने में टीमें कामयाब हुई हैं।

3 – दक्षिण अफ्रीका बनाम इंग्लैंड (साल 2016, टी-20 वर्ल्ड मुंबई)

साल 2016 में टी-20 वर्ल्ड कप के एक मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड टीम का आमना-सामना मुंबई के वानखेडे मैदान में था। इस मैच में दक्षिण अफ्रीका की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवरों में 229 रनों का स्कोर बना दिया। इस लक्ष्य का पीछा करना इंग्लैंड के लिए आसान नहीं कहा जा सकता लेकिन जो रूट की 83 और जेशन रॉय की 16 गेंदों में 43 रनों की पारी के चलते टीम ने 19.4 ओवरों में इस लक्ष्य को 8 विकेट के नुकसान पर हासिल कर लिया।

2 – दक्षिण अफ्रीका बनाम वेस्टइंडीज (साल 2015, जोहान्सबर्ग)

वेस्टइंडीज की टीम टी-20 फॉर्मेट की सबसे खतरनाक टीम मानी जाती है। इसका एक उदाहरण साल 2015 के उनके दक्षिण अफ्रीका दौरे पर देखने को मिला था। जिसमें दोनों टीमों के बीच जोहान्सबर्ग के मैदान में टी-20 सीरीज का दूसरा मैच खेला जा रहा था। इस मैच में मेजबान टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवरों में फाफ डु प्लेसिस के शानदार शतक की बदौलत 231 रन बना दिए थे।

इसके वेस्टइंडीज की तरफ से भी जोरदार प्रहार बल्लेबाजी में देखने को मिला। यूनिवर्स बॉस क्रिस गेल ने 40 गेंदों में जहां 90 रनों की पारी खेली तो वहीं मार्लोन सैमुअल्स ने 39 गेंदों में 60 रन बना दिन। जिसकी बदौलत विंडीज टीम ने इस मैच को 19.2 ओवरों में खत्म करते हुए 4 विकेट से जीत हासिल की थी।

1 – न्यूजीलैंड बनाम ऑस्ट्रेलिया (साल 2018, ऑकलैंड)

न्यूजीलैंड के मैदानों में अक्सर बड़े स्कोर लिमिटेड फॉर्मेट में बनते हुए आसानी से देखे जा सकते हैं। जिसके पीछे सबसे बड़ी वजह इन मैदानों का आकार बेहद छोटा होना है और इस कारण बाउंड्री तक गेंद को पहुंचाना काफी आसान दिखता है। साल 2018 में ऑस्ट्रेलिया की टीम न्यूजीलैंड के दौरे पर थी, जिसमें दोनों ही टीमों के बीच टी-20 सीरीज का 5वां मैच ऑकलैंड के मैदान में खेला गया था।

इस मैच में न्यूजीलैंड की टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए मार्टिन गुप्टिल के 105 रनों की बदौलत 20 ओवरों में 243 रन बना दिए। यहां से ऑस्ट्रेलियाई टीम को लक्ष्य हासिल करने के लिए काफी बेहतर बल्लेबाजी करनी थी। जिसमें डेविड वॉर्नर और डार्सी शॉर्ट ने टीम को जहां तेज शतकीय शुरुआत दी तो वहीं मध्यक्रम में भी काफी आक्रामक बल्लेबाजी देखने को मिली। इसकी बदलौत ऑस्ट्रेलियाई टीम ने 18.5 ओवरों में लक्ष्य को हासिल करते हुए 5 विकेट से मैच को अपने नाम किया था।

Leave a Response