close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

पांच स्पोर्ट्स स्टार्ट अप्स जो बदल रहे हैं भारत में खेल की आबो-हवा

भारत दुनिया का सबसे बड़ा बाजार है, जहां बिजनेस के लिए हर तरह के मौके उपलब्ध हैं। अगर बात स्पोर्ट्स स्टार्ट अप्स की करें तो आने वाले 5 वर्षों में भारतीय खेल बाजार की अर्थव्यवस्था 10 बिलियन डॉलर हो जाएगी। वहीं मौजूदा समय में भारत में कई ऐसे स्टार्ट अप हैं, जिन्होंने स्पोर्ट्स बिजनेस में हाथ आजमाया और वह अब यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हो चुके हैं। भारतीय स्टार्ट अप्स का दखल एक तरफ दुनिया की सबसे बड़ी क्रिकेट लीग आईपीएल में तो रहता ही है, वहीं दूसरी तरफ आने वाले टी-20 विश्वकप में भी इनकी भूमिका अहम साबित होने वाली है।

इस खास लेख में हम आपको पांच स्पोर्ट्स स्टार्ट अप्स के बारे में बता रहे हैं, जिन्होंने भारतीय खेल बाजार को बदलकर रख दिया हैः

ड्रीम 11

Image result for Dream 11

साल 2008 में हर्ष जैन व भावित शेठ ने फैंटेसी स्पोर्ट्स प्लेटफॉर्म ड्रीम 11 की बुनियाद रखी थी। ड्रीम 11 अपने उपभोक्ताओं को लुभावने ऑफर्स के साथ क्रिकेट, हॉकी, फुटबॉल, कबड्डी और बॉस्केटबॉल की मनपसंद टीम चुनने की आजादी देता है और सटीक अनुमान लगाने वालों को विजेता चुना जाता है। इसी वर्ष ये कंपनी स्टीडव्यू कैपिटल का इंवेस्टमेंट हासिल करने के साथ यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हुई है, जो पहली भारतीय गेमिंग कंपनी बनी है।

आईएफएसजी-केपीएमजी की रिपोर्ट के मुताबिक ड्रीम 11 मार्केट लीडर के रूप में उभरी है, इस स्पोर्ट्स फैंटेसी प्लेटफॉर्म पर 50 मिलियन उपभोक्ता हैं। सीएजीआर की रिपोर्ट के अनुसार पिछले तीन वर्षों में ड्रीम 11 के यूजर्स में 230 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी इस कंपनी के ब्रांड एंबेस्डर हैं, इसके अलावा कंपनी आईपीएल और आईसीसी विश्वकप की आधिकारिक पार्टनर भी रह चुकी है।

मोबाइल प्रीमियर लीग

Image result for mobile premier league

एमपीएल की आधारशिला साई श्रीनिवास किरन गारिमेला और शुभम मल्होत्रा ने साल 2018 में रखी थी। बंगलौर स्थित गलाक्टस फनवेयर टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड की गेमिंग कंपनी मोबाइल प्रीमियर लीग यानी एमपीएल साल 2018 सितंबर में शुरु हुई थी। पिछले साल नवंबर में एमपीएल ने ये घोषणा किया था कि सेकोइया कैपिटल ने उन्हें 5 मिलियन डॉलर फंड किया है। उसके बाद दूसरे फंडिंग राउंड में कंपनी को दिसंबर में गो-जेक से 30 मिलियन डॉलर का फंड मिला था। अप्रैल 2019 में कंपनी को सीरीज ए फंडिंग के तहत गो-वेंचर्स, टाइम्स इंटरनेट और सेकोइया कैपिटल इंडिया से 35 मिलियन डॉलर का फंड हासिल हुआ है। विराट कोहली टीम के लिए कैंपेनर रह चुके हैं, स्पोर्ट्स फैंटेसी प्लेटफॉर्म पर अबतक 25 मिलियन उपभोक्ता हैं।

कल्टफिट

Image result for Cultfit

जिम चेन चलाने वाली क्योरफिट की कल्टफिट खिलाड़ियों को मैदान पर 100 फीसदी देने के लिए तैयार करती है। जिसमें ईटफिट, माइंडफिट और केयर फिट के तहत कंपनी खिलाड़ियों के खानपान, मेंटल वेलनेस प्रोग्राम और डायगोनेस्टिक का ध्यान रखती है। कंपनी ने भारतीय क्रिकेट स्टार केएल राहुल को अपना ब्रांड एंबेस्डर बनाया है।

साल 2016 में मिंत्रा के को-फाउंडर मुकेश बंसल और फ्लिपकार्ट के पूर्व मुख्य बिजनेस अधिकारी अंकित नागोरी ने क्योरफिट की स्थापना की थी। हेल्थ व फिटनेस स्टार्ट अप क्योर फिट ने एस्सेल ग्रोथ द्वारा आयोजित पहले फंडिंग राउंड में 75 मिलियन डॉलर और एक साल के भीतर 120 मिलियन डॉलर का फंड हासिल किया। मिंट कैलकुलेशन के मुताबिक कंपनी की मौजूदा इंवेस्टमेंट की वैल्यू 500 मिलियन डॉलर से अधिक है।

स्पोर्ट्स इंटरैक्टिव

भारत की सबसे बड़ी स्पोर्ट्स डिजिटल एजेंसी स्पोर्ट्स इंटरैक्टिव की स्थापना साल 2002 में मुंबई में कुछ आईटी प्रोफेशनल ने की थी। तकरीबन एक दशक के भीतर कंपनी ने खेलप्रेमियों के लिए पूरी दुनिया में खेल का अनुभव बदलकर रख दिया है। साल 2016 में स्पोर्ट्स इंटरैक्टिव को एफडब्लू स्पोर्ट्स इंवेस्टमेंट फंड और एएसके प्रावी कैपिटल एडवाइजर्स ने खरीद लिया। कंपनी ने साल 2018 फीफा विश्वकप के आधिकारिक फैंटेसी गेमिंग एप्प को तैयार करने की बोली लगाई और ब्रांड को उसमें सफलता भी मिली।
इसके अलावा कंपनी देश की बड़ी-बड़ी लीग्स जैसे इंडियन सुपर लीग, प्रो कबड्डी लीग और स्पोर्ट्स चैनल्स के साथ भी काम कर रही है। साथ ही कंपनी कई बड़े मीडिया हाउस, प्रोफेशनल टीम्स और स्पोर्ट्स गवर्निंग संस्थाओं के लिए भी काम कर रही है।

जेवेन

भारत में खेल को एक्टिव रखने के लिए जेवेन कई तरह के काम कर रहा है। जेवेन कंपनी का मानना है कि लोगों को स्पोर्ट्स से जुड़ना चाहिए और कंपनी इस बदलाव में बड़ी भागीदार बनना चाह रही है। भारत के दिग्गज टेनिस स्टार महेश भूपति और बिजनेस लीडर हेमचंद्रा जावेरी ने साल 2016 में भारत में खेल संस्कृति का विकास करने के लिए इस कंपनी की स्थापना की। जेवेन का उद्देश्य है कि भारत में हर कोई खेल से जुड़े।
कंपनी को शुरुआती दिनों में ही 50 करोड़ रुपए का बाहरी फंड मिला। इसके अलावा जेवेन बतौर ब्रांड खेल प्रेमियों के लिए फुटवियर से लेकर खेल से जुड़े कई प्रोडक्ट्स बनाता है। कंपनी फिलहाल क्रिकेट, फुटबॉल, टेनिस, दौड़, वॉक और जिम से जुड़ी सामग्री बनाने में अग्रणी है।

Leave a Response

Manoj Tiwari

The author Manoj Tiwari

100 MB Sports में कंटेट राइटर का पद संभालते हुए काम का लुत्फ उठा रहे हैं। कम बोलने में विश्वास और काम को ज्यादा तवज्जो देने में भरोसा रखते हैं। मुंबई में साल भर से ज्यादा समय बिता चुके हैं, शहर को लेकर खुद की अपनी राय रखते हैं। स्पोर्ट्स हमेशा से पसंदीदा बीट रही है, अपने करियर की पारी शुक्रवार मैगजीन से शुरू की, जो स्पोर्ट्सकीड़ा और स्पोर्ट्सवाला से होते हुए अब 100 MB Sports तक आ गयी है। बीच में हमने राजनीति से लेकर मनोरंजन और यात्रा बीट पर भी काम किया, लेकिन स्पोर्ट्स की भूख खत्म नहीं हुई। मायानगरी में जब काम नहीं कर रहे होते हैं, तो शहर घूम रहे होते हैं। अभी के लिए बस इतना ही। हमें और जानना है, तो लिखा हुआ पढ़ लीजिये।