close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

आखिर लिमिटेड ओवर्स क्रिकेट में कहां गलती कर रही है भारतीय महिला टीम

इंग्लैंड दौरे पर तीनों फॉर्मेट की सीरीज खेलने गई भारतीय महिला क्रिकेट टीम को एक भी सीरीज में जीत हासिल नहीं हो सकी। एकमात्र टेस्ट मैच की सीरीज से इस दौरे की शुरुआत हुई जो भारतीय टीम कड़ी मशक्कत करने के बाद ड्रॉ कराने में कामयाब रही थी।

वहीं इसके बाद खेली गई 3 मैचों की वनडे सीरीज में टीम को शुरुआती 2 मैचों में एकतरफा हार का सामना करना पड़ा, हालांकि आखिरी मैच में टीम जीतने में कामयाब हुई, जिससे सीरीज का अंत 2-1 से हुआ। दौरे की समाप्ति 3 मैचों की टी-20 सीरीज के साथ हुई। इसके पहले मैच में इंग्लैंड की टीम ने जीत हासिल की, वहीं दूसरे मैच में भारतीय महिला टीम ने वापसी करते हुए सीरीज को 1-1 से बराबर कर दिया। आखिरी टी-20 मैच में एकबार फिर टीम को हार मिली और सीरीज भी 2-1 से गंवानी पड़ी।

आखिर कहां हो रही गलती

भारतीय महिला टीम की लिमिटेड ओवर्स सीरीज में हार के कारणों पर नजर डाली जाए तो सबसे बड़ी वजह टीम का मध्यक्रम का विफल होना है। वनडे सीरीज में कप्तान मिताली राज के अलावा कोई दूसरा बल्लेबाज 3 मैचों में एक भी अर्धशतकीय पारी खेलने में कामयाब नहीं हो सका।

वनडे कप्तान मिताली राज जहां सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने वाली खिलाड़ी थी, तो वहीं उनके बाद भारत की तरफ से स्मृति मंधाना ने सबसे ज्यादा रन बनाए थे, जिनके बल्ले से 3 मैचों में 81 रन देखने को मिले थे। इसके अलावा स्ट्राइक रेट भी टीम की एक बड़ी समस्या है, जिसके कारण टीम 200 से 240 के स्कोर तक ही बनाने में कामयाब हो पा रही थी।

टी-20 सीरीज में भी दिखी यही खामी

सभी को उम्मीद थी कि भारतीय महिला टीम टी-20 सीरीज में शानदार प्रदर्शन करेगी। पहले मैच में टीम को 177 रनों का लक्ष्य मिला था, लेकिन बारिश के खलल और 3 विकेट जल्दी गवांने के कारण टीम को डकवर्थ लुईस नियम के अनुसार 18 रनों से हार का सामना करना पड़ा।

इसके बाद दूसरे मैच में गेंदबाजों के अच्छे प्रदर्शन के चलते टीम को जीत हासिल हुई। लेकिन तीसरे मैच में सिर्फ स्मृति मंधाना ही 70 रनों की पारी खेल सकी और टीम का अन्य कोई खिलाड़ी उनका साथ नहीं दे सका। इसके चलते टीम 20 ओवरों में सिर्फ 153 रन बनाने में ही कामयाब हो सकी थी।

Leave a Response