close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

ENGvIND: क्या डेविड मलान की वापसी से खत्म होगी इंग्लैंड की समस्या?

भारत के खिलाफ 5 मैचों की टेस्ट सीरीज के पहले 2 मैच खत्म होने के बाद इंग्लैंड की टीम 1-0 से सीरीज में पीछे हो गई है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण मेजबान टीम के ऊपरी क्रम के बल्लेबाजों का उम्मीद के अनुसार प्रदर्शन ना कर पाना है। सीरीज के पहले ही टेस्ट मैच में यह कमजोरी साफ तौर पर देखने को मिली थी, जिसके बाद लॉर्ड्स टेस्ट मैच में लंबे समय के बाद हसीब हमीद की टीम में वापसी हुई थी। 

इसके बावजूद कुछ खास बड़ा अंतर देखने को नहीं मिला क्योंकि ओपनिंग साझेदारी एक भी पारी में 50 रन के आंकड़े तक भी नहीं पहुंच सकी। वहीं, इसके मुकाबले भारतीय ओपनिंग जोड़ी के प्रदर्शन को देखा जाए तो वो 4 पारियों में एक में 97 जबकि एक में शतकीय साझेदारी कर चुके हैं, दोनों टीम की बल्लेबाजी में एक बड़ा अंतर साफ तौर पर देखने को मिल रहा है। 

ऊपरी क्रम के खराब प्रदर्शन का खामियाजा मध्यक्रम को भुगतना पड़ रहा है, जिसमें कप्तान रूट अकेले ही टीम की बल्लेबाजी का पूरा भार उठाते हुए दिखे हैं। यदि रूट जल्दी आउट होते हैं, तो उनके बाद ऐसा कोई बल्लेबाज नहीं दिखा है जो लंबी पारियां खेलने में सक्षम हो। 4 पारियों में से रूट ने जिन 2 में शतक लगाया, उसमें टीम ने 300 रनों का आंकड़ा पार किया। 

जबकि नॉटिंघम टेस्ट मैच की पहली पारी में 64 रनों पर जैसे ही रूट आउट होकर पवेलियन लौटे तो टीम भी 183 के स्कोर पर सिमट गई। वहीं, लॉर्ड्स टेस्ट मैच में दबाव के समय रूट के 33 रन बनाकर आउट होने के बाद पूरी टीम 120 के स्कोर पर सिमट गई थी। अब इन 4 पारियों से मौजूदा इंग्लैंड टीम की बल्लेबाजी की मजबूती का आकलन किया जा सकता है। 

तीसरे टेस्ट में नई ओपनिंग जोड़ी और मलान के आने से कितना बदलाव आएगा 

अब सीरीज में 1-0 से पिछड़ने के बाद इंग्लैंड की टीम से जहां कुछ खिलाड़ियों की छुट्टी कर दी गई है, तो वहीं डेविड मलान को एकबार फिर से टीम में शामिल किया गया है, ताकि ऊपरी क्रम को मजबूती मिल सके। मलान तीसरे टेस्ट में 3 नंबर पर बल्लेबाजी के लिए उतर सकते हैं जबकि हसीब हमीद और रोरी बर्न्स पारी की शुरुआत करते हुए नजर आयेंगे। 

डेविड मलान एक टी-20 विशेषज्ञ खिलाड़ी के तौर पर पहचाने जाते हैं, लेकिन उनकी फॉर्म को ध्यान में रखते हुए टेस्ट क्रिकेट में उन्हें खेलने का मौका मिला है। मलान ने साल 2017 में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया था, जिसके बाद से उन्होंने अब तक 15 टेस्ट मैचों में 27.85 की औसत से 724 रन बनाए हैं, जिसमें एक शतकीय पारी भी दर्ज है। लेकिन मलान के टीम में शामिल होने के बावजूद भारतीय गेंदबाजों के शानदार फॉर्म को देखते हुए मलान के लिए राह आसान नहीं होने वाली है। 

Leave a Response