close
DOWNLOAD 100MB MOBILE APP

विश्वकप के ऐसे 3 मैच जब एसोसिएट देशों की ने किया बड़ा उलटफेर

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद की लगातार कोशिश रहती है कि वह इस खेल को अधिक से अधिक देशों में मशहूर कर सके। जिससे क्रिकेट को भी एक ग्लोबल स्पोर्ट्स कैटेगरी में शामिल किया जाए। इसमें सभी बड़ी भूमिका एसोसिएट देशों के तौर पर शामिल होने वाली टीमें कर सकती हैं, जिसमें से कई ने अपनी पिछले प्रदर्शन से बड़ी टीमों को मात देते हुए फैंस सहित सभी को अचंभे में डाल दिया था।

क्रिकेट के खेल को अनिश्चितताओं से भरा कहा जाता है, जिसका यदि सबसे बड़ा उदाहरण देखना है तो मजबूत टीमों का कमजोर या ऐसी टीम से हार जाना जिसकी किसी ने उम्मीद ही नहीं की हो। विश्वकप जैसे बड़े टूर्नामेंट में जहां टीमों के लिए एक-एक मैच में जीत हासिल करना बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। वहां पर यदि वह एक ऐसा मैच हार जाएं जिसमें उनकी जीत की संभावना 100 फीसदी मानी गई हो तो टीम का मनोबल पूरी तरह से टूटने के साथ उसकी तैयारियों पर भी सवाल खड़े कर दिए जाते हैं। हम आपको विश्वकप के ऐसे ही टॉप-3 मैचों की बारे में बताने जा रहे हैं जिसमें एसोसिएट देशों की टीमों ने बड़ी टीमों के खिलाफ जीत दर्ज की।

1 – साल 2007 वनडे विश्वकप (आयरलैंड बनाम पाकिस्तान)

वेस्टइंडीज में खेले गए साल 2007 विश्वकप कई चीजों के कारण याद रखा जाएगा । इस विश्वकप में ग्रुप डी में आयरलैंड और पाकिस्तान के बीच मैच खेला जाना था, जिसमें आयरिश कप्तान ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। लेकिन पाकिस्तान की टीम 45.4 ओवरों में सिर्फ 132 के स्कोर पर ही सिमट गई। इसके बाद लक्ष्य का पीछा करने उतरी आयरलैंड की टीम की तरफ से नील ओ ब्रायन ने 72 रनों की पारी खेलते हुए जीत में अहम भूमिका अदा की और आयरिश टीम ने इस मैच को 41.4 ओवरों में खत्म करते हुए 3 विकेट से रोमांचक जीत हासिल की। उन्होंने पाकिस्तान को विश्वकप से ग्रुप स्टेज से ही बाहर का रास्ता दिखा दिया था।

2 – साल 2011 वनडे विश्व कप (इंग्लैंड बनाम आयरलैंड)

भारत में खेले गए साल 2011 के वनडे विश्वकप में इंग्लैंड टीम का सामना ग्रुप बी में आयरलैंड के खिलाफ बेंगलुरु के मैदान में था। इस मैच में इंग्लैंड की टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला करते हुए 50 ओवरों में 327 रन बना दिए। इसमें ट्रॉट ने 92 और इयान बेल ने 81 रनों की पारी खेली थी। जवाब में आयरलैंड की पारी की शुरुआत अच्छी नहीं रही

और आधी टीम 111 के स्कोर तक पवेलियन लौट चुकी थी। लेकिन इसके बाद केविन ओ ब्रायन ने एलेक्स क्यूसेक के साथ 6वें विकेट के लिए 103 गेंदों में 162 रनों की साझेदारी करते हुए आयरलैंड को फिर से मैच में वापस ला दिया था। ब्रायन ने मैच में 63 गेंदों में 113 रनों की मैच विनिंग पारी खेली जिसकी बदौलत आयरलैंड ने लक्ष्य को 49.1 ओवर में हासिल करते हुए 3 विकेट से मैच में रोमांचक जीत दर्ज की थी।

3 – साल 2016 टी-20 विश्वकप (अफगानिस्तान बनाम वेस्टइंडीज)

टी-20 फॉर्मेट में बेहद मजबूत मानी जाने वाली वेस्टइंडीज टीम को यदि कोई एसोसिएट टीम इस फॉर्मेट में मात देती है, तो यह अचंभे वाली बात जरूर होगी। लेकिन साल 2016 में भारत में खेले गए आईसीसी टी-20 विश्वकप में वेस्टइंडीज टीम का सामना नागपुर में अफगानिस्तान के साथ था। इस मैच में विंडीज टीम ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया था। जिसमें उनके गेंदबाजों ने अफगान टीम को 20 ओवरों में सिर्फ 123 के स्कोर पर ही रोक दिया।

यह लक्ष्य विंडीज टीम के नजरिए से बेहद आसान था, लेकिन अफगानिस्तान के गेंदबाज अलग ही इरादे के साथ मैदान में उतरे थे। मोहम्मद नबी और राशिद खान की स्पिन गेंदबाजी ने वेस्टइंडीज बल्लेबाजों को खुलकर खेलने का मौका नहीं दिया। इसके अलावा आमिर हमजा के 4 ओवरों में सिर्फ 9 रन आना भी विंडीज टीम की हार का एक बड़ा कारण बना। वेस्टइंडीज की टीम 20 ओवरों में 117 रन ही बना सकी थी, जिसके बाद उसे 6 रनों से मैच में हार का सामना करना पड़ा था।

Leave a Response